DSCN6945 सत्याग्रह से स्वच्छताग्रह अभियान चलायेंगे गुजरात के 400 सामाजिक कार्यकर्ता

जिस तरह गुजरात से आकर सारण की ऐतिहासिक धरती से अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने आंदोलन का बिगुल फूंका था और सत्याग्रह किया था, उसी तरह बापू की जन्मभूमि गुजरात से 400 सामाजिक कार्यकर्ता जिले के सभी पंचायतों में गंदगी के खिलाफ स्वच्छताग्रह अभियान चलायेंगे। जिले के सभी पंचायतों व शहरी क्षेत्रों में गुजरात के सामाजिक कार्यकर्ता स्वच्छताग्रह अभियान अभियान चलायेंगे और आमजनों से स्वच्छता के प्रोत्साहन के लिए आग्रह करेंगे। इसकी व्यापक स्तर पर तैयारी की गयी है। यह अभियान 1 से 15 अप्रैल तक चलेगा। अभियान में शामिल होने के लिए गुजरात के 400 सामाजिक कार्यकर्ता शनिवार की रात ही पहुंच गये। उनके ठहरने, भोजन व सुरक्षा तथा स्वागत की व्यापक तैयारी जिला प्रशासन ने की है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत राज्य सरकार ने सारण जिले को विशेष रूप से चुना है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सपनों को साकार करने के लिए स्वच्छताग्रह अभियान शुरू करने का निर्णय लिया गया है और उनकी जन्म भूमि गुजरात से स्वच्छताग्रहियों को आमंत्रित किया गया है।

 

DSCN6945 सत्याग्रह से स्वच्छताग्रह अभियान चलायेंगे गुजरात के 400 सामाजिक कार्यकर्ता

 

वैसे 1 से 15 अप्रैल तक स्वच्छता पखवाड़ा मनाया जाता है लेकिन इस बार जिले में सत्याग्रह से स्वच्छताग्रह के रूप में इस अभियान को चलाया जाएगा। इसके लिए स्वच्छताग्रहियों की चार- चार सदस्यीय एक सौ टीम बनायी गयी है । इसके अलावा प्रत्येक टीम में स्थानीय कर्मचारियों व पदाधिकारियों को भी शामिल किया गया है। इस अभियान में पंचायत प्रतिनिधियों, स्वास्थ्य कर्मचारियों, आशा कार्यकर्ताओं, पंचायत सचिव, रोजगार सेवकों, आंगनबाड़ी सेविका- सहायिका, शिक्षकों समेत अन्य सामाजिक कार्यकर्ताओ को भी शामिल किया गया है ।

 

 

सत्याग्रह से स्वच्छताग्रह के दौरान गांव- गांव में जाकर ग्रामीणों को स्वच्छता के महत्व को समझाया जाएगा और उन्हें गंदगी के खिलाफ आंदोलन शुरू करने के लिए प्रेरित किया जाएगा व शपथ दिलाया जाएगा। स्वच्छताग्रहियों के द्वारा आमजनों को स्वच्छता के प्रोत्साहन के लिए शपथ दिलाया जाएगा। उन्हें यह शपथ दिलाया जाएगा कि जिस तरह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ सत्याग्रह किया था और स्वच्छता का नारा दिया था। उसी तरह गंदगी के खिलाफ सत्याग्रह करने करेंगे। प्रत्येक नागरिक वर्ष में 100 घंटे का श्रम दान करेंगे यानि प्रत्येक सप्ताह दो घंटे सफाई के लिए श्रमदान करेंगे । गंदगी के खिलाफ स्वच्छताग्रह अभियान की शुरुआत नागरिक अपने, घर, परिवार, गली, मुहल्ले व कार्यालय में श्रमदान करेंगे। गुजरात से आ रहे स्वच्छताग्रहियों के द्वारा जिले के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता की स्थिति का भी आकलन करेंगे। उन्होंने कहा कि सफाई की क्या स्थिति है । सफाई के लिए संसाधनों की उपलब्धता, मुख्य सड़क पर सफाई की स्थिति, संपर्क मार्गों पर सफाई की स्थिति, नाला की जल निकासी, कूड़ा कचरा डंप करने की व्यवस्था, शहरी क्षेत्रों में सफाई कर्मचारी की उपलब्धता, शहरी निकायों के पास संसाधनों की उपलब्धता का आकलन किया जाएगा।

 

1 से 15 अप्रैल तक पूरे जिले में चलने वाले सत्याग्रह से स्वच्छताग्रह की मानिटरिंग नियमित रूप से की जाएगी और राज्य सरकार को रिपोर्ट भेजा जाएगा। इसकी विडियो ग्राफी,फोटोग्राफी करायी जाएगी। टीम के सदस्यों के कार्यक्रम व ग्रामीणों में उसके प्रभाव की भी रिपोर्टिंग प्रति दिन सरकार को भेजना है। स्वच्छताग्रहियों के द्वारा गांव- मुहल्ले, चौक- चौराहा के अलावा सदर अस्पताल, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, रेफरल अस्पताल, अनुमंडलीय अस्पताल, स्वास्थ्य उप केन्द्रों में लोगों को शपथ दिलाया जाएगा। सभी सरकारी व गैर सरकारी कार्यालयों में भी स्वच्छताग्रह के लिए लोगों को प्रेरित किया जाएगा।

 

सिविल सर्जन डा ललित मोहन प्रसाद ने बताया कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत जिले में सत्याग्रह से स्वच्छताग्रह अभियान 1 से 15 अप्रैल तक चलाया जाएगा। इस अभियान में शामिल होने के लिए गुजरात के 400 सामाजिक कार्यकर्ता आ रहे हैं।

इस्लामाबाद में सार्क समिट के लिए भारत को राजी करेगा नेपाल!

Previous article

नाविकों के अपहरण से गुस्से में उत्तर कोरिया , तैनात किए युद्धपोत

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.