September 29, 2022 9:20 am
featured देश

कुर्सी की जंग हारी शशिकला, पन्नीरसेल्वम की दावेदारी मजबूत

sashikala panner कुर्सी की जंग हारी शशिकला, पन्नीरसेल्वम की दावेदारी मजबूत

चेन्नई। बीते काफी दिनों से तमिलनाडु की सत्ता में काफी उतार -चढ़ाव देखा गया। एआईएडीएमके की मुखिया जे जयललिता का यूं लंबी बीमारी के बाद चले जाना जैसे मानों सत्ता के गलियारों में किसी सैलाब से कम नहीं था। लेकिन आज सुप्रीम कोर्ट के एक बड़े फैसले के बाद तमिलनाडु की सियासत के रंग कुछ और ही दिखाई दे रहे है। कहा जाता है कि सत्ता और सियासत में कभी भी कुछ भी हो सकता है। कल तक जो करीबी होने का दंभ भरते थे। आज उन्हीं की वफादारी पर सवालिया निशान लगा है।

sashikala panner कुर्सी की जंग हारी शशिकला, पन्नीरसेल्वम की दावेदारी मजबूत

4 साल तक जेल में रहना होगा शशिकला को:-

पिछले काफी सालों से चले आर रहे 66 करोड़ रुपये के आय से अधिक संपत्ति मामले में आज देश की सबसे बड़ी अदालत ने फैसला सुना दिया है। जिसके चलते पार्टी की महासचिव शशिकला को तत्काल प्रभाव से सरेंडर कर 4 साल की सजा काटनी होगी। अगर पिछले एक महीने की अगर बात करें तो कुर्सी की जंग काफी देखने को मिली। हालांकि जयललिता के बाद शशिकला के समर्थन के साथ पन्नीरसेल्वम ने मुख्यमंत्री की बागडोर अपने हाथ ली थी। लेकिन सियासत के मोहरे के बीच उन्हें इस्तीफा देना पड़ा और इस समय वो सूबे के कार्यवाहक मुख्यमंत्री है।

sasikala कुर्सी की जंग हारी शशिकला, पन्नीरसेल्वम की दावेदारी मजबूत

10 साल तक नहीं बन सकती मुख्यमंत्री:-

पन्नीरसेल्वम के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे के बाद शशिकला की सत्ता संभालने की चाह इस कदर बढ़ी। उन्होंने 119 विधायकों के साथ अपने दावेदारी पेश की लेकिन अब कोर्ट के फैसले के बाद उन्हें सीधे चार साल के लिए जेल जाना पड़ेगा। इतना ही नहीं बल्कि वो अब 6 साल तक मुख्यमंत्री पद के लिए चुनाव भी नहीं लड़ सकती है और 10 साल के लिए पार्टी के किसी पद पर काबिज भी नहीं हो सकती।

sasikala1 कुर्सी की जंग हारी शशिकला, पन्नीरसेल्वम की दावेदारी मजबूत

पन्नीरसेल्वम की दावेदारी मजबूत:-

शशिकला के ताज पोशी के सपने के टूटने के बाद अगर सबसे ज्यादा किसी की दावेदारी मजबूत हुई है तो वो केवल पन्नीरसेल्वम ही है। दरअसल 235 सदस्यीय तमिलनाडु विधानसभा में सत्ता पर काबिज होने के विए 118 का जादुई आकड़ा छूना जरुरी है लेकिन अम्मा के निधन के बाद फिलहाल अन्नाद्रमुक के खेमे में केवल 134 विधायक है जिनमें से 6 विधायक अब पन्नीरसेल्वम के खेमे में आ चुके है। यानि कि शशिकला के खिलाफ बगावत करने वाले विधायकों की संख्या अब पन्नीरसेल्वम सहित 7 हो गई है। और अगर 11 और विधायक पन्नीरसेल्वम की तरफ आ गए तो शशिकला के समर्थकों की संख्या घटकर 116 रह जाएगी। यानि कि दोषी करार होने के बाद अगर शशिकला अपना कोई दोवेदार पेश नहीं करती है तो पन्नीरसेल्वम को इसका सीधा फायदा मिलेगा।

shashikala कुर्सी की जंग हारी शशिकला, पन्नीरसेल्वम की दावेदारी मजबूत

वहीं कोर्ट के फैसले के आते ही पार्टी की महासचिव शशिकला गोल्डन बे रिसॉर्ट में शशिकला की बैठक जारी है जिसमें 119 विधायकों के साथ 100 समर्थक है जबकि पन्नीरसेल्वम के घर के बाहर समर्थकों का जबरदस्त जश्न का माहौल है।

Shipra कुर्सी की जंग हारी शशिकला, पन्नीरसेल्वम की दावेदारी मजबूत (शिप्रा सक्सेना)

Related posts

जेएनयू सुसाइड : एससी व एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज

kumari ashu

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत हुए कोरोना संक्रमित, ट्वीट कर दी जानकारी

Aman Sharma

फ्रांसीसी सांसद ओलिवियर दसॉ की मौत, मौत पर फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने जताया दुख

Aman Sharma