featured देश

सीएम रघुबर दास को जमशेदपुर से हराकर सरयू राय ने मारी बाजी, जाने 10 VIP सीटों के बारे में 

सरेयू राय सीएम रघुबर दास को जमशेदपुर से हराकर सरयू राय ने मारी बाजी, जाने 10 VIP सीटों के बारे में 

रांची। झारखंड विधानसभा चुनाव में 10 ऐसी सीटें हैं, जहां के रिजल्ट पर हर किसी की नजर है। सीएम रघुबर दास को जमशेदपुर पूर्वी सीट पर उन्हीं की सरकार में मंत्री रहे सरयू राय ने बगावत करते हुए चुनौती दी थी। इसके साथ ही जेएमएम नेता और पूर्व सीएम हेमंत सोरेन ने बरहेट और दुमका दोनों ही सीट पर जीत दर्ज कर ली है।

आइए जानते हैं, इन 10 हॉट सीटों का क्या है हाल:

  1. जमशेदपुर पूर्वी

जमशेदपुर पूर्व सीट चुनाव लड़ रहे सीएम रघुबर दास को बीजेपी के बागी सरयू राय के हाथों हार का सामना करना पड़ा है। रघुबर की हार के साथ ही झारखंड में सीएम के अपनी सीट गंवाने का मिथक कायम रहा। हर राउंड के साथ यहां दिलचस्प चुनावी जंग देखने को मिल रही थी। बीजेपी ने सरयू राय का टिकट काटा तो उन्होंने बगावत करते हुए रघुबर के खिलाफ मैदान में उतरने का ऐलान कर दिया था। वहीं चर्चित कांग्रेस प्रवक्ता गौरव वल्लभ भी यहां से रघुबर को चुनौती दे रहे हैं। गौरव वल्लभ वही शख्स हैं, जिन्होंने बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा से एक टीवी डिबेट के दौरान पूछा था कि 5 ट्रिल्यन में कितने जीरो होते हैं।

  1. बरहेट

बरहेट सीट पर पूर्व सीएम और जेएमएम नेता हेमंत सोरेन ने जीत दर्ज कर लिया है। हेमंत को जहां 73725 वोट मिले, वहीं बीजेपी कैंडिडेट सिमोन मालतो को 47985 वोट हासिल हुआ। पिछले विधानसभा चुनाव में दुमका में हार के बावजूद जेएमएम के पास यह गढ़ बरकरार रहा था। सोरेन को जेएमएम-कांग्रेस-आरजेडी गठबंधन की तरफ से सीएम फेस के रूप में देखा जा रहा है। पीएम मोदी ने यहां बीजेपी कैंडिडेट सिमोन मालतो के लिए रैली की थी।

  1. दुमका

सोरेन परिवार का गढ़ मानी जाने वाली संथाल क्षेत्र की इस सीट पर हेमंत सोरेन ने कांटे की टक्कर में जीत का झंडा गाड़ दिया है। सोरेन का मुकाबला रघुबर सरकार में मंत्री लुइस मरांडी से था। सोरेन को 80589 वोट हासिल हुए, जबकि मरांडी के खाते में 67571 वोट आए। पिछली बार वह इस सीट से हार गए थे। लोकसभा चुनाव में जेएमएम चीफ शिबू सोरेन भी दुमका से हार गए थे।

  1. रांची

रांची सीट पर रघुबार दास सरकार में मंत्री चन्द्रेश्‍वर प्रसाद सिंह जेएमएम की महुआ माजी से 5904 वोटों से जीत गए। चन्द्रेश्‍वर प्रसाद सिंह लगातार इस सीट से जीतते रहे हैं। शुरुआती राउंड में उनकी बढ़त का मार्जिन 20 हजार से ज्यादा था लेकिन बीच में उन्‍हें महुआ माजी ने पीछे छोड़ दिया था। रांची सीट पर इस बार कम वोटिंग हुई थी।

  1. सिल्ली

सिल्ली सीट इस चुनाव की हॉट सीटों में से है। ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन पार्टी (एजेएसयू) के अध्यक्ष सुदेश महतो ने यह सीट जेएमएम की सीमा देवी से जीत ली। एजेएसयू पार्टी ने बीजेपी से गठबंधन तोड़कर अकेले चुनाव लड़ा है। पिछले चुनाव और उपचुनाव में वह यहां से हार गए थे। हालांकि पहले वह इस सीट से लगातार जीतते रहे हैं। ऐसे में उनके राजनीतिक करियर के लिए नतीजा अहम है।

  1. मांडू

मांडू सीट पर तीन भाइयों की टक्कर पर हर किसी की नजर टिकी है। यहां से बीजेपी के जयप्रकाश भाई पटेल ने एजेएसयू पार्टी के निर्मल महतो को हरा दिया है।चुनाव के ऐलान के बाद जयप्रकाश भाई पटेल ने जेएमएम छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया था। वहीं, बड़े भाई रामप्रकाश भाई पटेल ने जेएमएम जॉइन कर ली। चचेरे भाई चंद्रनाथ भाई पटेल को जेवीएम ने प्रत्याशी बनाया है।

  1. डालटनगंज

डालटनगंज सीट पर कांग्रेस के चर्चित कैंडिडेट केएन त्रिपाठी पर बीजेपी के आलोक चौरसिया ने शुरुआत में पिछड़ने के बाद आखिर जीत हासिल कर ली। पहले चरण के मतदान के दौरान इस सीट पर काफी बवाल हुआ था। बीजेपी कैंडिडेट आलोक चौरसिया के समर्थकों से झड़प के दौरान कांग्रेस कैंडिडेट केएन त्रिपाठी ने यहां एक पोलिंग बूथ पर पिस्तौल लहराई थी, जिस पर चुनाव आयोग ने रिपोर्ट तलब की है। पिछले चुनाव में यहां से बीजेपी के आलोक चौरसिया जीते थे।

  1. झरिया

यह सीट चर्चित सिंह मेंशन के बाहुबली सूर्यदेव सिंह की पारिवारिक जंग की वजह से हॉट सीटों में से एक है। यहां से कांग्रेस कैंडिडेट पूर्णिमा सिंह ने जीत दर्ज की है। उन्‍होंने सूर्यदेव सिंह की बहू बीजेपी कैंडिडेट रागिनी सिंह को हरा दिया। पूर्णिमा सिंह सूर्यदेव सिंह के भाई राजनारायण सिंह की बहू हैं। पिछले चुनाव में रागिनी के पति संजीव और पूर्णिमा के पति नीरज आमने-सामने थे, जिसमें संजीव को जीत मिली थी। कुछ महीने बाद नीरज की हत्या से पारिवारिक विवाद चरम पर पहुंच गया।

  1. चक्रधरपुर

बीजेपी को इस सीट पर बड़ा झटका लगा है। यहां जेएमएम कैंडिडेट सुखराम उरांव ने जीत दर्ज की है। उन्‍होंने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा को हराया है। यह सीट चुनावों में काफी चर्चित रही। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने यहां रैली में कई बार राम मंदिर का जिक्र किया था। जेएमएम ने यहां शशिभूषण सामद का टिकट काटकर सुखराम उरांव को टिकट दिया तो सामद बागी हो गए।

Related posts

केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली में लगाया गया नाइट कर्फ्यू

pratiyush chaubey

‘द राइज ऑफ उत्तराखंड’ के विजन को लेकर वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने लॉच किया अपना पर एप

mahesh yadav

इस बार जनप्रतिनिधियों को सबक सिखाएंगे फतेहपुरवासी, बोले- रोड नहीं तो वोट नहीं

Shailendra Singh