WhatsApp Image 2021 01 09 at 5.07.56 PM राजधानी में बढ़ा 'बर्ड़ फ्लू' का खतरा, बत्त्खों की मौत के बाद संजय झील बंद
प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली। दिल्ली की संजय झील में बत्त्खों के मरने की खबर ने एक बार फिर प्रशासन की चिंताएं बढ़ा दी हैं। वहीं दूसरी और पिछले 3 4 दिनों में दिल्ली और आसपास के छेत्रों में लगभग 40 पक्षियों की मौत हो चुकी है। हालांकि मरे पक्षियों में अभी बर्ड फ्लू की पृष्टि नहीं हुई है स्वास्थ्य विभाग को रिपोर्ट का इंतजार है।

आपको बता दें कि शनिवार को दिल्ली में संजय झील में बत्त्खों और रोहिणी सेक्टर 15 के एक पार्क से कुछ कौवों के मरे हुए पाए जाने की जानकारी रैपिड रिस्पांस टीम को मिली है। इसी के साथ दिल्ली पशुपालन विभाग की ओर से ये भी जानकारी मिली है। रैपिड रिस्पांस टीम इन जगहों से सैम्पल कलेक्शन करने का काम कर रही है। एक अधिकारी ने कहा कि कि झील को अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक संजय झील में 10 बत्तखें मरी हुई मिली थीं। इनमें से 2 बत्तखों के सैम्पल जांच के लिये लैब में भेजे जाएंगे। रोहिणी के पार्क से भी सैम्पल कलेक्शन का काम किया जा रहा है। दिल्ली में अब तक आधिकारिक तौर पर बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं की गई है। अधिकारियों को रिपोर्ट का इंतजार है।

पशुपालन विभाग के डॉक्टर राकेश सिंह ने बताया, “हमें संजय झील में 10 बत्तक मृत मिले हैं, जिनके नमूनों को जांच के लिये प्रयोगशाला भेज दिया गया है। दिल्ली में बीते कुछ दिनों में 35 कौवों समेत कम से कम 50 पक्षी मर चुके हैं। जिससे बर्ड फ्लू का खतरा बढ़ गया है।” राकेश सिंह ने इससे पहले कहा था, “हमें द्वारका, मयूर विहार फेस.3 और हस्तसाल विलेज में कौवों के मरने की खबर मिली थी। हालांकि अभी यह पता लगाया जा रहा है कि उनके मरने का कारण बर्ड फ्लू था या कुछ और” उन्होंने कहा कि पहली जांच रिपोर्ट सोमवार को आ जाएगी।

नए फीचर्स WhatsApp को बनाएंगे और भी खास, जानें क्या है नया अपडेट

Previous article

संजय झील के बाद गाजीपुर पोल्ट्री मार्केट बंद, सीएम केजरीवाल ने किया ऐलान

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.