Sachin Pilot 1 राजस्थान के सियासी संग्राम में आया नया ट्विस्ट, क्या राहुल के आगे झुक गये पायलट..

राजस्थान में चल रही सियासी जंग एक बार फिर से शुरू हो गई है। एक बार फिर से अशोक गहलोत की कुर्सी पर खतरा मंडरा ता हुआ दिख रहा है। तो वहीं कांग्रेस से निकाले गाये सचिन पायलट ने राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा है।

राजस्थान पाप की नगरी या रावण की लंका नहीं- सचिन पायलट
कांग्रेस पार्टी से बगावत करने वाले 18 विधायकों के साथ पायलट ने राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा लेकिन उन्हें राहुल की ओर से कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला। बताया जा रहा है कि राहुल गांधी ऑफिस की ओर से पायलट को अभी तक समय नहीं दिया गया है।
तो वहीं, राजस्थान कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा और प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे ने रविवार को ही पायलट खेमे को लेकर पार्टी का रुख साफ कर दिया है। विधायक दल की बैठक में पायलट खेमे के खिलाफ कार्रवाई की मांग उठी। हालांकि इसके बाद पायलट खेमे को छोड़कर कांग्रेस में वापसी करने वाले विधायकों के फिर से पार्टी में स्वागत वाले बयान भी सामने आए। लेकिन अब राहुल गांधी की ओर से समय तक नहीं दिए जाने को लेकर चर्चा है कि सचिन पायलट के लिए अब राजस्थान कांग्रेस के दरवाजे हमेशा के लिए बंद हो गए हैं।

तो वहीं, बीजेपी भी राजस्थान में चल रहे राजनैतिक ड्रामे में खुलकर मैदान में आ गई है। सरकार पर मंडराते खतरे और राजनीतिक संकट को अब तक कांग्रेस की अंदुरुनी लड़ाई बताते हुए चुप्पी साधने वाली बीजेपी ने अपनी रणनीति बदल ली है।कांग्रेस के विधायकों की खरीद-फरोख्त के आरोप झेल रही पार्टी अब खुद के विधायकों में सैंधमारी की बात कह रही है। यही कारण है कि डेढ़ दर्जन बीजेपी विधायकों को गुजरात में बाड़ाबंदी में रखा गया है। कुल 75 विधायक वाली पार्टी को अब सैंधमारी का डर सताने लगा है। और यही कारण है कि 14 अगस्त से शुरू होने वाले विधानसभा सत्र से पहले सभी विधायकों से सीधा संपर्क साधा जा रहा है। उन्हें जयपुर शिप्ट करने की तैयारी भी लगभग पूरी कर ली गई हैं।

https://www.bharatkhabar.com/high-risk-on-coronavirus-death-in-india/
इस बीच कांग्रेस और बीजेपी अपने-अपने विधायकों को अलग रखकर सियासी गठजोड़ में लग गई है। बीजेपी राजस्थान को लेकर कितनी सीरियस है। इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि, राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री ने कई दिनों से दिल्ली का गहराव किया हुआ है और बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात कर रहीं है। हालाकि बहुत जल्द इस सियासी ड्रामे से पर्दा उठाने वाला है।

कोरोना काल में पीएम मोदी स्‍वतंत्रता दिवस पर कैसे देंगे भाषण?

Previous article

सत्य सूरज की तरह है, अटकलें न लगाएं, सब्र करें: कृति

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured