September 25, 2021 3:23 pm
दुनिया

रूस ने सबसे पहले बनायीं कोरोना वैक्सीन, 20 देशों ने बुकिंग

कोरोना

कोरोना वायरस के लिए बनायीं गयी रूस की वैक्सीन की मांग पूरी दुनिया में की जा रही है। इसके लिए पहले ही 20 देशों ने प्री बुकिंग कर दी है। इसकी जानकारी रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराश्को ने दी है इसको लेकर उनका कहना है कि दुनिया के बीस देशो ने वैक्सीन की करोड़ो डोज़ खरीदने में रूचि दिखाई है। और बहुत सारे देश इस दौड़ में लग रहे है की वैक्सीन जल्द से जल्द उन्हें मिल जाये और इस भयंकर महामारी से बचा जा सके। आपको बता दें कि रूस पहला ऐसा देश बन चूका है जिसने सबसे पहले कोरोना की वैक्सीन स्पूतनिक-वी तैयार कर ली है। इसके साथ ही सभी देश कोरोना की वैक्सीन को बनाने पर काम कर रहे थे लेकिन रूस ने सबको पीछे छोड़कर यह सबसे पहले कोरोना वैक्सीन बनाने का कृतिमान हासिल कर लिया है। कोरोना महामारी की मार पूरी दुनिया झेल रही है। इसके चलते कई देशों की तो आर्थिक स्थिति भी कमज़ोर हो गयी है और सभी देश खुदको इस महामारी से बचने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे है। दुनिया के कई देशों में तो यह अपने चरम पर है। और वहां पर इसे रोक पाना भी एक मुश्किल हों रहा है। इसकी वजह से कई देशों की स्वास्थ्य सेवाएं भी चरमरा गयी है। तमाम प्रयासों के बाद भी इस संक्रमण के मामलों में किसी भी प्रकार की कोई ख़ास कमी दिखाई नहीं पड़ रही है।

प्री बुकिंग को लेकर रूसी वेबसाइट का दावा

रूसी वैक्सीन से संबंधित वेबसाइट ने दावा करते हुआ कहा है कि इन सभी देशों ने कोरोना वैक्सीन खरीदने में अपनी रूचि दिखाई है। इन सभी देशों के नाम को विस्तार से बताया गया है। इसमें भारत, इंडोनेशिया, फिलीपींस, सऊदी अरब, ब्राज़ील और मैक्सिको आदि देश है। इसके साथ ही वेबसाइट का दावा है कि साल 2020 के अंत तक 20 करोड़ कोरोना वैक्सीन बनाने की योजना है, जिसमें से 3 करोड़ वैक्सीन खुद रूस रखने वाला है। फिलहाल इस वेबसाइट के द्वारा किये गए वादों में कितनी सच्चाई है ये तो आने वाले कुछ दिन में साफ़ हो जायेगा लेकिन ये बात सच है कि सभी देश इस वैक्सीन को बनाने की दौड़ में लगे हुए है और खुदको पूरी दुनिया में साबित करके दिखाना चाहते है। फिलहाल जो देश इस दौड़ में नहीं है वो दूसरे देशों पर ही पूरी तरह आश्रित है और वो रूस जैसे देश से उम्मीद लगाए हुए बैठे है और जल्द से जल्द वैक्सीन को पाना चाहते है। इस महामारी की मार से बचना चाहते है ।

बड़े स्तर पर सितम्बर में शुरू होगा उत्पादन

माना जा रहा है कि इस साल सितम्बर में रूस बड़े स्तर पर कोरोना वैक्सीन का उत्पादन शुरू कर देगा जिसके बाद वो मांग कर रहे देशों को इसकी पूर्ति कर सकता है। जिस प्रकार से दावों के साथ बताया जा रहा है कि कई देशों ने पहले ही इसको लेकर प्री बुकिंग कर दी है। उसको देखते हुए रूस को इसके उत्पादन के लिए और अधिक तेज़ी दिखानी होगी जिससे जल्द से जल्द यह अन्य देशों के पास भी भेजी जा सके और पूरी दुनिया इस महामारी से निजात प् सके।

आर्थिक व्यवस्था पर पड़ा बुरा प्रभाव

कोरोना का पूरी दुनिया की आर्थिक व्यवस्था पर बेहद ही बुरा प्रभाव पड़ा रहा है इससे कई देशों में आर्थिक व्यवस्था चरमरा गई है। भारत में भी इसका प्रभाव सभी क्षेत्रों में देखने को मिल रहा है। यहाँ भी आर्थिक रूप से अगर देखा जाये तो इसको लेकर आरबीआई के गवर्नर ने भी कहा है कि अगर यह आगे भी ऐसे ही चलता रहा तो भारत की आर्थिक स्थिति को बुरा प्रभाव दिखने को मिल सकता है। आर्थिक स्थिति को बचाएं रखने के लिए सरकार की तरफ से भीं तमाम तरह के प्रयास किये जा रहे है। सरकार इसके लिए निवेश भी कर रही है ताकि आने वाले वक्त में देश को एक अच्छी स्थिति में लाया जा सके। देश में बड़े स्तर पर रोज़गार का संकट पैदा हो गया है इसके लिए भी सरकार को प्रयास करने होंगे। सरकार की तरफ से लोगों को मदद भी दी जा रही है।

Related posts

सऊदी अरब ने कतर पर तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर पेश करने का लगाया आरोप

Rani Naqvi

काबूल की शिया मस्जिद में बम धमाका, लोगों के मरने की आशंका

Rani Naqvi

इस देश में मिला दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा हीरा

Rahul