देश के लिए तीन दिनों में तैयार हो सकती है आरएसएस सेना : मोहन भागवत

मुजफ्फरपुर । राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन राव भागवत ने कहा है कि अपने देश व समाज के लिए हमारा सबकुछ नयौछावर है। उन्होंनें कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो देश के लिए तीन दिनों में ही आरएसएस की सेना तैयार हो जाएगी। मोहन राव भागवत रविवार को जिला स्कूल के मैदान में स्वयंसेवकों को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि “राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एक परिवार है। जिस दिन भारत हिंदू राष्ट्र बन जाएगा उस दिन इसमें सभी पद समाप्त हो जाएंगे। उसके बाद संघ एक परिवार के रूप में काम करता रहेगा”।

छह दिन के प्रवास के अंतिम दिन संघ प्रमुख भागवत ने एक घंटे की बौद्धिक कार्यशाला में स्वयंसेवकों को संघ की शाखाओं में अधिक जाने पर जोर दिया। उन्होंनें कहा कि हमें प्रत्येक दिन शाखा में जाना चाहिए। प्रत्येक दिन नहीं तो प्रत्येक सप्ताह या उससे भी ना हो महीने में एक बार तो जरुर जाना चाहिए और अगर वो भी ना हो तो कम से कम संघ के मूल 6 कार्यक्रमों और ऐसी बौद्धिक कार्यशाला में निश्चित भाग लेना चाहिए। हमेश अच्छी चीजों को आदतों में शामिल करना चाहिए।

संघ प्रमुख ने कहा कि देश की विपदा में स्वयंसेवक हर वक्त देश के साथ होते हैं। उन्होंने इस संबोधन में भारत-चीन के युद्ध की भी चर्चा की। भागवत ने स्वयंसेवकों को बताया की जब चीन से हमारा युद्ध हुआ तो सिक्किम सीमा क्षेत्र तेजपुर से पुलिस-प्रशासन भाग खड़ी हुई। उस समय संघ के स्वयंसेवक सीमा पर मिलिट्री फोर्स के आने तक डटे रहे। स्वयंसेवकों को जब भी कोई जिम्मेवारी मिली है तो उन्होंने उसे बखूबी से निभाया है। आज भी देश को जरूरत पड़े और संविधान इजाजत दे, तो तीन दिनों में स्वयंसेवकों की सेना तैयार हो जाएगी।