September 20, 2021 4:29 am
featured राजस्थान राज्य

राजस्थान में लगातार बढ़ रहा कोरोना संक्रमण का खतरा, शनिवार सुबह सामने आए 19 नए पॉजिटिव मामले

राजस्थान राजस्थान में लगातार बढ़ रहा कोरोना संक्रमण का खतरा, शनिवार सुबह सामने आए 19 नए पॉजिटिव मामले

जयपुर. राजस्थान में कोरोना संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। यहां शनिवार सुबह 19 नए पॉजिटिव मामले सामने आए। जिसमें पहली बार बांसवाड़ा में 2 पॉजिटिव मिले। वहीं 2 चूरू में संक्रमित तब्लीगी जमात से हैं। इसके साथ भीलवाड़ा के बांगड़ अस्पताल के ओपीडी में भर्ती एक मरीज भी संक्रमित मिला है। बीकानेर में एक 60 साल की महिला कोरोना पॉजिटिव मिली है। जो पिछले 4 दिन से पीबीएम बीकानेर में भर्ती थी। जो पहले से वेंटिलेटर पर थीं। जिनकी आज सुबह 6 बजे मृत्यू हो गई। इसके साथ झुंझुनू में 6 संक्रमित मिले हैं। जो सभी तब्लीगी जमात से हैं। वहीं जोधपुर में 7 नए पॉजिटिव मिले। शनिवार सुबह संक्रमित आए लोगों में से कुल 8 तब्लीगी जमात से हैं। वहीं जिसके बाद राजस्थान में कुल पॉजिटिव की संख्या 198 पहुंच गई है। जिसमें 41 तब्लीगी शामिल हैं। 

बता दें कि इससे पहले शुक्रवार को यहां 46 नए मामले सामने आए। जिसमें 12 टोंक से हैं। यह सभी टोंक में पहले पॉजिटिव मिल चुके तब्लीगी जमात के लोगों के परिवार से हैं। वहीं बीकानेर में भी 2 तब्लीगी जमात के लोग संक्रमित मिले हैं। इसके साथ जयपुर में भी 14 नए केस सामने आए हैं। वहीं 3 केस उदयपुर में सामने आए। साथ ही अलवर में भी 3 केस सामने आए। इसके बाद जोधपुर में ईरान से लौटे 9 और दौसा में 1 केस सामने आया। वहीं देर शाम भरतपुर में 2 केस सामने आए, जो तब्लीकी जमात से हैं। 

राजस्थान के 18 जिलों में कोरोना, सबसे ज्यादा 55 जयपुर में 

राजस्थान में कुल 33 जिले हैं। इनमें से अब तक 18 जिलों में कोरोना के केस मिल चुके हैं। सबसे ज्यादा केस जयपुर में मिले हैं। यहां अब तक 55 पॉजिटिव मिल चुके। इसके अलावा भीलवाड़ा 27, झुंझुनूं 15, जोधपुर 44 (इसमें 27 ईरान से आए), चूरू 10, टोंक 16, प्रतापगढ़ 2, डूंगरपुर 3, अजमेर 5, अलवर 5, बीकानेर 3, उदयपुर 4, भरतपुर में 3, बांसवाड़ा में 2, दौसा, धौलपुर, पाली और सीकर में एक-एक संक्रमित मिला है।

अब तक चार लोगों की मौत

राजस्थान में अब तक 4 कोरोना पॉजिटिव की मौत हुई है। पहली मौत 73 वर्षीय बुजुर्ग की हुई। उसे कई अन्य गंभीर बीमारियां भी थीं। बुजुर्ग डायलिसिस पर था। बीपी, किडनी और सांस लेने में काफी परेशानी थी। हालांकि चिकित्सक किडनी खराब होना मौत का कारण बता रहे हैं। दूसरी मौत एक 60 साल के व्यक्ति की हुई। दोनों के परिवार के दो-दो लोगों में भी कोरोनावायरस पॉजिटिव मिला है। जिसके बाद अब तीसरी मौत अलवर के 85 साल के बुजुर्ग की हुई है। जिन्हे ब्रेनहैमरेज हुआ था। वहीं तीसरी मौत बीकानेर में 60 साल की महिला की हुई। जो मृत्यू होने के बाद पॉजिटिव पाई गई। वे बीकानेर के पीएमबी अस्पताल में पिछले 4 दिन से भर्ती थीं और वेंटिलेटर पर थी। साथ ही विकलांग थीं। 

मुख्यमंत्री ने दो टास्क फोर्स बनाई

पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम अशोक गहलोत के बीच वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई मुलाकात में लाॅकडाउन के बाद पैदा हुए हालातों पर चर्चा हुई। इसके बाद सीएम अशोक गहलोत ने दो टास्क फोर्स बनाईं। इस टास्क फोर्स को प्रधानमंत्री को तुरंत सुझाव देना है कि 14 अप्रैल के बाद लॉकडाउन खत्म होने के बाद की स्थिति का आकलन किस रूप में किया जा रहा है। इसका मकसद यह पता लगाना है कि किस उम्र के लोगों और सेक्टरों को छूट दी जाए ताकि आर्थिक स्थिति न बिगड़े।

हाईकाेर्ट ने कहा था-लाॅकडाउन में जमानत अर्जी काे अर्जेन्ट श्रेणी में नहीं मानें, सुप्रीम काेर्ट ने लगाई राेक

सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान हाईकोर्ट के उस अादेश पर अंतरिम राेक लगा दी, जिसमें लाॅकडाउन के कारण जमानत अर्जियों, एससी-एसटी एक्ट की अपीलों व सजा निलंबन के प्रार्थना पत्रों को अर्जेन्ट श्रेणी में न मानने काे कहा गया था। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एलएन राव व दीपक गुप्ता की खंडपीठ ने राजस्थान हाईकोर्ट प्रशासन की एसएलपी पर वीसी से सुनवाई करते हुए ये अादेश दिया। पक्षकारों को नोटिस जारी कर जवाब देने काे कहा। दरअसल हाईकोर्ट की जयपुर पीठ ने एक जमानत अर्जी की सुनवाई के दौरान इन्हें अर्जेन्ट श्रेणी में नहीं माना था। हाईकोर्ट का कहना था कि लॉकडाउन के आदेश का उल्लंघन कर आरोपियों या अभियुक्तों को रिहा करना अर्जेन्ट श्रेणी का मामला नहीं है। हाईकोर्ट ने न्यायिक रजिस्ट्रार को निर्देश दिया था कि इन्हें अर्जेन्ट श्रेणी में सूचीबद्द न किया जाए। हाईकोर्ट प्रशासन ने इस आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी।

एडवाइजरी : एक-दूसरे की छतों पर भी न जाएं, इलाज के लिए मेडिकल टीम खुद ही आएगी

एसीएस हाेम राजीव स्वरूप से लाेगाें से अपील की है कि कर्फ्यूग्रस्त क्षेत्र में छताें पर दूरी बनाएं रखे। एक दूसरे की छत पर न जाएं। न ही किसी काे आने दें। हम हवाई निगरानी भी रख रहें हैं। मेडिकल टीम पूरे परकाेटे का सर्वे कर रही है। इसमें पूरी तरह से सहयाेग करें। किसी के भी खांसी बुखार जुकाम है ताे तत्काल मेडिकल टीम काे सूचना दें। जल्द चिकित्सा टीम घर पहुंचेगी। टीम काे लगा कि काेराेना के संक्रमण की आशंका है ताे संबंधित व्यक्ति काे टीम अपने साथ ले जा सकती है। इसमें सहयाेग करें। इससे डरने की बात नहीं है। मेडिकल टीम साथ लेकर जाती है ताे पूरा इलाज हाेगा।

Related posts

वीडियो में जानें, गुफा के अंदर स्थित टपकेश्वर मंदिर का हैरान करने वाला सच

rituraj

सीएम रावत ने मुख्यमंत्री आवास में ई हेल्थ-सेवा डेशबोर्ड का शुभारम्भ किया

Rani Naqvi

गृह सचिव ने किया खुलासा, गृह मंत्रालय में पोर्न देखते थे कर्मचारी

rituraj