September 22, 2021 1:52 pm
featured छत्तीसगढ़

इस समय, हम दो चीजों से निपट रहे हैं, नक्सलियों सें और कोरोना वायरस से: छत्तीसगढ़ सुरक्षाबल अधिकारी

छत्तीसगढ़ 3 इस समय, हम दो चीजों से निपट रहे हैं, नक्सलियों सें और कोरोना वायरस से: छत्तीसगढ़ सुरक्षाबल अधिकारी

रायपुर। दक्षिण छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बस्तर संभाग में सुरक्षा बल केवल नक्सलियों से नहीं बल्कि कोरोना वायरस प्रकोप से भी निपट रहे हैं। यह बात एक अधिकारी ने शनिवार को कही। अधिकारी ने कहा कि सुरक्षाकर्मियों से कहा गया है कि वे शिविरों में रहने के दौरान और जब वे अभियान पर निकलें तो अतिरिक्त सावधानी बरतें और प्रोटोकॉल का पालन करें। पुलिस महानिरीक्षक (बस्तर रेंज) सुंदरराज पी ने पीटीआई भाषा ने कहा, “बस्तर संभाग में अभी तक कोविड​​-19 के किसी भी मामले का पता नहीं चला है, लेकिन सुरक्षा बलों को सुरक्षित रखने के लिए कुछ खास निर्देश जारी किए गए हैं।” उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों के लिए यह एक नई स्थिति है, जो तीन दशक से अधिक समय से क्षेत्र में नक्सल समस्या से जूझ रहे हैं। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “इस समय, हम दो चीजों से निपट रहे हैं, नक्सलियों सें और कोरोना वायरस से।” बस्तर संभाग में राज्य पुलिस और अर्धसैनिक बलों के विभिन्न इकाइयों सहित कम से कम 80,000 सुरक्षाकर्मी तैनात हैं। 

इस बस्तर संभाग में बस्तर, कांकेर, कोंडगांव, नारायणपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर और सुकमा जिले आते हैं। नक्सल निरोधक अभियानों के लिए लगभग 40,000 वर्ग किलोमीटर में फैले इस क्षेत्र में सुरक्षा बलों के लगभग 135 शिविर हैं। उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखने के अलावा, छुट्टी के बाद ड्यूटी पर आने वाले कर्मियों में से जिनमें ड्यूटी फिर से शुरू करने से पहले कोरोना वायरस के लक्षण दिखेंगे उन्हें पृथक कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारी शिविरों का दौरा कर रहे हैं और संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए कर्मियों को जरूरी कदमों के बारे में जागरूक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सभी शिविरों में मास्क, हैंड सेनिटाइजर और हैंडवॉश दिए गए हैं।

बस्तर संभाग के कई जिले आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और महाराष्ट्र सहित पड़ोसी राज्यों के साथ सीमाएँ साझा करते हैं, जहाँ बड़ी संख्या में क्षेत्र के लोग काम के लिए जाते हैं। इस बीच, स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार लॉकडाउन के बाद पड़ोसी राज्यों से अपने गांवों में लौटने वाले मजदूरों की आवाजाही काफी बढ़ गई है, जिससे सामुदायिक संक्रमण फैलने की आशंका बढ़ गई है। उन्होंने कहा, ‘‘स्थिति को ध्यान देते हुए हम पड़ोसी राज्यों के पुलिस और नागरिक अधिकारियों के साथ समन्वय कर रहे हैं और जहाँ तक संभव हो अंतरराज्यीय आवागमन पर अंकुश लगाने का प्रयास कर रहे हैं।’’

अंतरराज्यीय सीमाओं पर अस्थायी शिविर स्थापित किये गए हैं ताकि जो पड़ोसी राज्यों से लौटने वाले लोगों को उनके अपने घरों में जाने से पहले रखा जा सके। उन्होंने कहा कि बस्तर में ग्रामीण लॉकडाउन के नियमों का पालन कर रहे हैं और आवश्यक वस्तुओं को बेचने वाली दुकानों को छोड़कर सभी स्थानीय बाजार बंद हैं। पिछले महीने, सुकमा जिले में तैनात सीआरपीएफ के एक जवान की कोरोना वायरस के संभावित संपर्क के लिए जांच की गई थी, लेकिन बाद में उसके संक्रमित नहीं होने की बात सामने आयी थी। राज्य में अब तक सामने आये कोविड​​-19 के नौ मामलों में से चार मरीजों को ठीक होने के बाद छुट्टी दे दी गई है।

Related posts

Chaitra Navratri 2021: घोड़े पर सवार हो कर आ रही हैं देवी, जानें घटस्थापना का शुभ मुहूर्त और तिथियां !

Saurabh

मप्रःभोपाल केन्द्रीय जेल में मनाया गया श्रीकृष्ण जन्मोत्सव

mahesh yadav

ऑपरेशन ब्लू स्टार की 34वीं वर्षगांठ, जानिए इससे जुड़ी खास बातें

rituraj