सितारगंज में पुस्तकालय के भवन निर्माण हेतु 67.10 लाख रूपये की अवशेष धनराशि स्वीकृत

देहरादून। सचिव माध्यमिक शिक्षा डॉ.भूपिन्दर कौर औलख द्वारा जारी आदेश में जनपद उधमसिंहनगर के सितारगंज में पुस्तकालय के भवन निर्माण हेतु 67.10 लाख रूपये की अवशेष धनराशि स्वीकृत कर गई है। इससे पूर्व इस पुस्तकालय के भवन निर्माण हेतु रूपये 92.25 लाख की लगात के सापेक्ष 25.15 लाख रूपये की धनराशि अवमुक्त दी गई थी। सचिव माध्यमिक शिक्षा डॉ.भूपिन्दर कौर औलख द्वारा जारी आदेश में प्रदेश में वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरान राष्ट्रीय/राज्य/जनपद/ब्लॉक स्तर पर खेलकूद प्रतियोगिताओं के आयोजन तथा प्रतियोगिताओं में प्रतिभाग करने हेतु 99,95,164 रूपये की धनराशि निदेशक माध्यमिक शिक्षा को उपलब्ध करा दी गई है।

 

 

बता दें कि इसके अन्तर्गत राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में प्रतिभाग पर होने वाले व्यय के लिये 45,49,200 रूपये, 02 राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं(फुटबाल अण्डर-19 बी एण्ड जी, हॉकी अण्डर 19 बी एण्ड जी) के आयोजन पर हुए वास्तविक व्यय के भुगतान हेतु 1,93,604 रूपये, खेल शिविर पर होने वाले अनुमानित व्यय के लिये 2 लाख रूपये, राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं हेतु जनपदों को दी जाने वाली अनुमानित धनराशि 12 लाख रूपये एवं राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में प्रतिभागियों के भोजन हेतु जनपदों को दी जाने वाली अनुमानित धनराशि 23,85,000 रूपये तथा अन्य व्यय की धनराशि सम्मिलित है।

वहीं सचिव माध्यमिक शिक्षा डॉ.भूपिन्दर कौर औलख द्वारा जारी आदेश में प्रदेश के 7 डाईट्स में निर्माणाधीन बहुउद्देशीय कक्षों के निर्माण कार्यों हेतु वित्तीय वर्ष 2018-19 में अवशेष अन्तिम किश्त 169.85 लाख धनराशि स्वीकृत की गई है। प्रदेश के 07 डाईट् में डायट अल्मोड़ा के 47.20 लाख रूपये, डायट चड़ीगांव पौड़ी को 09.96 लाख रूपये, डायट नई टिहरी को 07.97 लाख रूपये, डायट बड़कोट उत्तरकाशी को 43.11 लाख रूपये, डायट गौचर चमोली को 10.005 लाख रूपये, लोहाघाट चम्पावत को 41.60 लाख व डायट रतूड़ा रूद्रप्रयाग को 10.005 लाख की धनराशि आवंटित की गई है।

इससे पूर्व प्रदेश के 10 जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थाओं में बहुउद्देशीय कक्षों के निर्माण हेतु औचित्यपूर्ण लागत रूपये 620.74 लाख रूपये के सापेक्ष वित्तीय वर्ष 2016-17 में प्रथम किश्त के रूप में रूपये 250.89 लाख रूपये एवं वित्तीय वर्ष 2017-18 में द्वितीय किश्त के रूप में 200 लाख रूपये इस प्रकार कुल 450.89(रूपये चार करोड़ पचास लाख नवासी हजार मात्र) की धनराशि अवमुक्त की गई थी।