obesity in kids 1 कोरोना से बच्चों को राहतः रिकवरी रेट में 99 प्रतिशत बच्चे हुए ठीक

देश अब कोरोना की दूसरी लहर से निकल चुका है। रोजाना केसों में कमी आ रही है। लेकिन सरकार अब कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी में जुट गया है।

कोरोना की दूसरी लहर पहली लहर से काफी घातक सिध हुई। लेकिन अब स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनी दी गई है। जिसमें सबसे ज्यादा खतरा बच्चों को बताया गया है।

कोरोना के बीच राहत भरी खबर

kidney transplant कोरोना से बच्चों को राहतः रिकवरी रेट में 99 प्रतिशत बच्चे हुए ठीक

राजधानी दिल्ली में कोविड पीड़ित बच्चों की रिकवरी बड़ों की तुलना में कहीं ज्यादा है। कोरोना की वजह से इलाज के लिए एडमिट होने वाले बच्चों की रिकवरी 99 पर्सेंट तक है। दिल्ली के दो बड़े अस्पतालों में कोविड की वजह से लगभग 278 बच्चे एडमिट किए गए और इसमें से 275 बच्चे ठीक हो गए। जबकि 3 बच्चों की मौत हो गई।

क्या कहते हैं आंकड़ें

kidni 4 कोरोना से बच्चों को राहतः रिकवरी रेट में 99 प्रतिशत बच्चे हुए ठीक

आंकड़ों के मुताबिक राजधानी के अस्पतालों में पिछले 2 महीनों में कोरोना की वजह से 78 बच्चे अस्पताल में भर्ती हुए । जिसमें 43 बच्चे और 33 बच्चियां थी। सभी बच्चों की आयु 4 महीने से लेकर 15 साल के बीच थी। रिसर्च में यह पता चला कि 78 में से 77 बच्चे कोरोना को मात देकर पूरी तरह ठीक हो गए।

 

गौरतलब है कि जो बच्चे अस्पताल में भर्ती हुए थे । उनमें से केवल 2 से 3 प्रतिशत तक ही बच्चों को आईसीयू की जरूरत पड़ी थी। हालांकि उनकी रिकवरी भी जल्दी ही हो गई थी। डाॅक्टरों की माने तो कोविड होने पर बच्चों को समय पर इलाज के लिए लेकर जाएं। समय पर इलाज होने पर सर्वाइवल के चांस बड़ों से ज्यादा है। लेकिन, अपने देश में बच्चों के इलाज के लिए डेडिकेटेड सेंटर की कमी है। इसलिए हमें बच्चों का ध्यान रखना ज्यादा जरूरी है।

महा टीकाकरण अभियान का ट्रायल आज से शुरू, गांव गांव होगा वैक्सीनेशन

Previous article

कोरोना पर चीनी वैज्ञानिक ने दी सफाई, जानें क्या कहा

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured