9193c233 ef32 4a06 be0b 17f08c4ffd40 रिलायंस-फ्यूचर ग्रुप की डील को मिली भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग की मंजूरी, Amazon को लगा झटका
फाइल फोटो

नई दिल्ली। ये तो सभी जानते हैं कि कारोबार में प्रतिस्पर्धा तो होती है। आज के समय में हर कोई एक-दूसरे से आगे निकलने की होड़ में लगा हुआ है। ऐसा ही कुछ अब इस समय रिलायंस इंडस्ट्रीज और जेफ बेजोस की ई-कॉमर्स कंपनी एमेजॉन के बीच चल रहा है। मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज और किशोर बियानी के फ्यूचर ग्रुप के बीच एक डील हुई थी। जिसका एमेजॉन पुरजोर विरोध कर रहा था। जिसके चलते एमेजॉन ने इस डील का विरोध करते हुए सिंगापुर की मध्यस्थता अदालत का रुख किया था। वहीं इस मामले में मध्यस्थता कोर्ट ने एमेजॉन के पक्ष में फैसला दिया था और डील पर अंतरिम रोक लगा दी थी। लेकिन ​अभी रिलायंस इंडस्ट्रीज के लिए एक राहत भरी खबर सामने आई है। दरअसल, रिलायंस इंडस्ट्रीज और फ्यूचर ग्रुप की डील को भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) ने मंजूरी दे दी है।

ये ​था पूरा मामला-

बता दें कि रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप के बीच हुई डील के तहत रिलायंस ने फ्यूचर ग्रुप के खुदरा, थोक, भंडारण और लॉजिस्टिक कारोबार का अधिग्रहण करने के लिए 24,713 करोड़ रुपये का सौदा किया गया था। इस सौदे को अब सीसीआई ने मंजूरी दे दी है। वहीं दूसरी तरफ एमेजॉन की ओर से रिलायंस इंडस्ट्रीज और फ्यूचर ग्रुप की इस डील का लगातार विरोध किया जा रहा है। एमेजॉन ने इस डील का विरोध करते हुए सिंगापुर की मध्यस्थता अदालत का रुख किया था। जानकारी के अनुसार एमेजॉन ने फ्यूचर ग्रुप को कानूनी नोटिस जारी किया था और यह आरोप लगाया था कि कंपनी ने अपनी 24,713 करोड़ रुपये की परिसंपत्तियां रिलायंस इंडस्ट्रीज को बेचकर उनके साथ किए गए करार का उल्लंघन किया है। जिसके बाद एमेजॉन ने मामले को लेकर सिंगापुर में मध्यस्थता कोर्ट में केस दायर किया था। वहीं इस मामले में मध्यस्थता कोर्ट ने एमेजॉन के पक्ष में फैसला दिया था और डील पर अंतरिम रोक लगा दी थी। इसके अलावा एमेजॉन ने बाजार नियामक सेबी, स्टॉक एक्सचेंज और सीसीआई को चिट्ठी लिखकर मध्यस्थता कोर्ट के फैसले को ध्यान में रखकर कार्यवाही करने को कहा था।

डील के लिए CCI से मिली मंजूरी-

रिलायंस देश में रिटेल कारोबार का विस्तार करना चाहती है और इसलिए यह डील की गई है। वहीं रिटेल सेक्टर में रिलायंस रिटेल को जेफ बेजोस की ई-कॉमर्स कंपनी एमेजॉन से काफी ज्यादा कंपटीशन मिल रहा है। वहीं सीसीआई के अलावा, इस डील के लिए बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) और नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) से मंजूरी चाहिए। इसके अलावा लेनदारों और अल्पसंख्यक शेयरधारकों से अनापत्ति प्रमाण पत्र भी जरूरी है। वहीं मंजूरी मिलने के साथ ही रिलायंस रिटेल को फ्यूचर ग्रुप के देश भर में फैले 1800 स्टोर का एक्सेस मिल जाएगा। इसमें फ्यूचर ग्रुप के बिग बाजार, एफबीबी, ईजीडे, सेंट्रल फूडहॉल फॉर्मेट्स के स्टोर शामिल हैं। देश भर के 420 शहरों में फ्यूचर ग्रुप के स्टोर मौजूद हैं।

Trinath Mishra
Trinath Mishra is Sub-Editor of www.bharatkhabar.com and have working experience of more than 5 Years in Media. He is a Journalist that covers National news stories and big events also.

पुलिस के हाथ लगी बड़ी कामयाबी, 3500 करोड़ के बाइक बोट घोटाले का आरोपी दिल्ली एयरपोर्ट से गिरफ्तार

Previous article

‘टोरबाज’ का ट्रेलर हुआ रीलीज, अभिनेता ने कहा- रेफ्यूजी कैंप में रहने वाले बच्चे टेररिस्ट नहीं होते बल्कि वे टेररिज्म का पहला शिकार होते हैं

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.