रामचरितमानस पढ़ने वालों को मिलेगा अलग एहसास, आर्ट पेपर पर प्रकाशन की योजना

लखनऊ: रामचरितमानस हर घर में पढ़ा जाता है, भगवान श्री राम के प्रति सभी की असीम श्रद्धा के साथ-साथ यह ग्रंथ जीवन जीने का सही तरीका सिखाता है। गीता प्रेस गोरखपुर द्वारा अब पाठकों के लिए नया प्रयोग किया जा रहा है।

आर्ट पेपर पर प्रकाशित होगी रामचरितमानस

गीता प्रेस गोरखपुर में रामचरितमानस ग्रंथ को अब आर्ट पेपर पर प्रकाशित करने की योजना बनाई है। यह पहली बार होगा जब श्रीराम के जीवन को आर्ट पेपर पर उतारा जाएगा। इसके पहल पवित्र ग्रंथ गीता को भी आर्ट पेपर पर अप्रैल महीने में तैयार किया गया था। पाठकों की तरफ से इसका सकारात्मक परिणाम मिलने के बाद रामचरितमानस को भी इसी तरह प्रस्तुत करने की योजना गीता प्रेस ने बनाई है।

आर्ट पेपर पर छपी किताब की बढ़ी मांग

दरअसल जब श्रीमद्भागवत गीता को आर्ट पेपर पर तैयार किया गया था। उसके बाद बाजार में इसकी मांग बढ़ गई, पाठकों की तरफ से बहुत सकारात्मक प्रतिक्रिया आई। जिसके बाद प्रबंधन ने श्रीरामचरितमानस को भी ऐसे ही तैयार करने की योजना बनाई है। बता दें कि आर्ट पेपर पर श्रीमद्भागवत गीता की 3000 कॉपियां छपी थी, जो डेढ़ माह के अंदर ही बिक गई। अब इसका दूसरा संस्करण भी जल्द ही आने वाला है।

श्रीमद्भागवत गीता को हिंदी और संस्कृत में पहले से प्रकाशित किया जा रहा है। अब अंग्रेजी और गुजराती को भी इसमें शामिल कर लिया गया है। कुल 15 भाषाओं में गीता प्रेस गोरखपुर से श्रीमद्भागवत गीता का प्रकाशन होता है, सभी भाषाओं में इसे आर्ट पेपर पर ही अब तैयार करने की योजना बनाई जा रही है। दरअसल आर्ट पेपर पर पुस्तक में शब्दों के साथ साथ चित्र की प्रस्तुति बेहतर लगती है। इसके कारण कहानी का सार समझ में आता है और पाठकों की रुचि बनी रहती है। विशेषकर युवा वर्ग में ज्यादा दिलचस्पी देखी जा रही है, इसीलिए रामचरितमानस को अब ऐसे ही प्रकाशित करने की रणनीति है।

कोरोना, ब्लैक फंगस के बाद डेंगू से भी निपटने के लिए तैयार राजधानी के ये अस्पताल

Previous article

दिग्गज मुक्केबाज डिंको सिंह का निधन, पीएम समेत कई लोगों ने जताया दुख

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured