featured यूपी

प्रयागराज: राज्‍यपाल आनंदीबेन ने कहा- आंगनबाड़ी केंद्रों को गोद लें शैक्षणिक संस्थान  

प्रयागराज: राज्‍यपाल आनंदीबेन ने कहा- आंगनबाड़ी केंद्रों को गोद लें शैक्षणिक संस्थान  

प्रयागराज: उत्‍तर प्रदेश की राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल ने गुरुवार को उत्‍तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्‍त विश्‍वविद्यालय के 15वें दीक्षांत समारोह में शामिल हुईं। इस दौरान उन्‍होंने विद्यार्थियों को मेडल भी दिए।

यह भी पढ़ें: वृंदावन कुंभ: ब्राह्मण सेवा संघ ने किया लक्ष्मी नारायण महायज्ञ

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने यूपी राजर्षि टंडन ओपन यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में अपने संबोधन में नई शिक्षा नीति जिक्र किया। उन्‍होंने कहा कि, वर्ष 2030 तक 50 प्रतिशत युवाओं को उच्च शिक्षा का लक्ष्य तभी प्राप्त होगा, जब प्राथमिक विद्यालयों में बच्चों की शिक्षा पूर्ण रूप से निर्धारित होगा।

विश्‍वविद्यालयों से की आंगनबाड़ियों को गोद लेने की अपील  

दीक्षांत समारोह में राज्यपाल आनंदीबेन ने प्रदेश की आंगनबाड़ियों में सभी आवश्यक जरूरतों को उपलब्ध कराने के लिए सरकारी और निजी शैक्षणिक संस्थानों से उन्‍हें गोद लेने का आह्वान किया। वहीं, राज्‍यपाल ने विश्वविद्यालय के नवनिर्मित अटल प्रेक्षागृह का उद्घाटन भी किया।

 

 

यूपी की गवर्नर ने आज के दीक्षांत समारोह में 19 विद्यार्थियों को गोल्‍ड मेडल दिया, जिसमें 14 मेडल छात्राओं को और पांच मेडल छात्रों को मिले। बाकी अन्य छात्रों को विभिन्न उपाधियां प्रदान की गईं। दीक्षांत समारोह में राज्‍यपाल के हाथों से गोल्‍ड मेडल पाकर छात्र-छात्राएं काफी खुश नजर आए।

 

 

 

28,659 शिक्षार्थियों को दी गई उपाधि  

आज के समारोह में दिसंबर, 2019 और जून, 2020 सत्र की परीक्षा में उत्तीर्ण कुल 28,659 शिक्षार्थियों को उपाधि प्रदान की गई। उपाधि पाने वालों में 15,492 छात्र और 13,167 छात्राएं हैं। इसी के साथ वर्ष 2010 से पहले विश्वविद्यालय से हिंदी, कंप्यूटर साइंस और कॉमर्स में शोध कार्य पूर्ण करने वाले तीन शिक्षार्थियों को शोध उपाधि भी प्रदान किया गया।

विश्‍वविद्यालय के कुलपति ने दी शुभकामनाएं

वहीं, इस अवसर पर उत्‍तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्‍त विश्‍वविद्यालय के कुलपति आचार्य कामेश्‍वर नाथ सिंह ने खुशी जताते हुए छात्र-छात्राओं को सुनहरे भविष्‍य की शुभकामनाएं दीं।

 

 

Related posts

विपक्ष की मांग: नोटबंदी पर राज्यसभा में आकर जवाब दें पीएम मोदी

bharatkhabar

लखनऊ में सड़क किनारे मिला कर्नाटक के आईएस अधिकारी का शव

kumari ashu

देवरिया के इस सिद्धपीठ के आगे अंग्रेजों ने भी टेक दिए थे घुटने, दिलचस्प है कथा

Aditya Mishra