वाराणसी हादसा: कांग्रेस नेता राज बब्बर ने कहा, तीन मंदिर तोड़कर फ्लाई ओवर बनाने के कारण हुई घटना

वाराणसी हादसा: कांग्रेस नेता राज बब्बर ने कहा, तीन मंदिर तोड़कर फ्लाई ओवर बनाने के कारण हुई घटना

मंगलवार को हुआ वाराणसी हादसा कुछ लोगों के लिए बहुत बड़ा अभिशाप साबित हुआ है। इस हादसे के चपेट में कई वाहनों के आने से 18 लोगों की मौत हो गई है, जबकि कई लोग घायल हो गए हैं। वारणसी में निर्माणाधीन फ्लाईओवर के गिरने से हुए हादसे के बाद उत्तर प्रदेश के कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष राज बब्बर ने बुधवार दोपहर को घायल लोगों से मुलाकात की। बीएचयू में वह काफी देर तक अस्पताल में रहे।

 

वाराणसी हादसा

 

इस दौरान उन्होंने कहा कि हमें पता चला है कि सरकार लोकसभा चुनाव से पहले सभी काम पूरा कराने की जल्दी में हैं। इसी कारण काम को काफी तेजी से कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमको तो यह भी पता चला है कि इस फ्लाईओवर को बनाने के कारण तीन मंदिरों को तोड़ा गया है। लोगों का मानना है कि हो सकता है कि इसी कारण से कल इसके दो बीम जमीन पर आ गए।

 

वाराणसी हादसा: मायावती का हमला, हादसे को ‘मन पर बोझ’ बताकर पल्ला न झाड़े सरकार, करे सख्त कार्रवाई

 

कांग्रेस नेता ने हर पीडि़त से उसका पक्ष भी जाना। उन्होंने इस दौरान कहा कि सिर्फ अधिकारियों को सजा देने से ही इस बड़े हादसे पर पल्ला नही झाड़ा जा सकता। प्रदेश के सेतु निर्माण मंत्री को भी इस्तीफा देना चाहिए।

 

राज बब्बर ने कहा कि इसकी भी जांच होने जाहिए कि किन क्षेत्रीय मंत्रियों के दबाव में मानकों की अनदेखी कर तेजी से निर्माण हो रहा था, इसकी भी जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा  कि मृतकों को पांच लाख का मुआवजा नाइंसाफी है। इनके परिजनों को कम से कम 50-50 लाख रुपया मिलना चाहिए। इसी तरह से घायलों को 20-20 लाख रुपया मिलना चाहिए।

 

उन्होंने कहा कि देश के किसी भी हिस्से में कोई भी दुर्घटना होने पर वहां का क्षेत्रीय सांसद जरूर पहुंचता है। यहां पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या उनकी ओर से किसी भी केंद्रीय मंत्री का न पहुंचना दुर्भाग्यपूर्ण है। शहर ही नहीं देशभर में इस तरह के निर्माण को तत्काल रोक देना चाहिए और जांच कमेटी की रिपोर्ट के बाद ही दोबारा काम शुरू हो। यदि काम रोका नहीं गया तो कांग्रेस पार्टी प्रदेश भर में आंदोलन करेगी।

 

कांग्रेस नेता ने कहा कि कर्नाटक में लगभग आधा दर्जन केंद्रीय मंत्री रवाना किए गए हैं, लेकिन वाराणसी में एक भी नहीं आया है। लगता है कर्नाटक के जश्न में काशी की कराहती जनता की आवाज गुम होकर रह गई है।