featured देश

दुश्मनों की हवा निकालने के लिए इस दिन भारत पहुंच रहा राफेल..

RAFEL दुश्मनों की हवा निकालने के लिए इस दिन भारत पहुंच रहा राफेल..

लड़ाकू विमान राफेल काफी समय से सुर्खियों में बना हुआ है। भारत नें फ्रांस से ये विमान दुश्मनों से निबटने के लिया है। राफेल आने से भारत की रक्षा प्रणाली मजबूत हो जाएगी। दुनिया का सबसे ताकतवार लड़ाकू विमान राफेल 29 जुलाई को भारत पहुंच जाएगा। 5 राफेल लड़ाकू विमानों ने फ्रांस के एयरबेस से भारत के लिए उड़ान भर दी है। भारतीय वायुसेना के फाइटर पायलट 7000 किलोमीटर की हवाई दूरी तय करके बुधवार को अंबाला एयरबेस पहुंचेंगे। राफेल से भारतीय वायुसेना की मौजूदा ताकत में जबर्दस्त इजाफा होगा क्योंकि पांचवी जेनरेशन के इस लड़ाकू जेट की मारक क्षमता जैसा लड़ाकू विमान चीन और पाकिस्तान के पास नहीं हैं।

rafel दुश्मनों की हवा निकालने के लिए इस दिन भारत पहुंच रहा राफेल..
फ्रांस से रवाना हुए इन विमानों को संयुक्त अरब अमीरात में एक एयरबेस पर उतारा जाएगा और फ्रांस के टैंकर विमान से ईंधन भरा जाएगा। इसके बाद विमान अंबाला एयरबेस के लिए आगे का सफर तय करेंगे। फ्रांस से राफेल विमानों को 17 गोल्डेन एरोज कमांडिंग आफीसर के पायलट लेकर आ रहे हैं। सभी पायलटों को फ्रांसीसी दसॉल्ट एविएशन कंपनी द्वारा प्रशिक्षित किया गया है। आज फ्रांस के एयरबेस से पांच राफेल लड़ाकू विमान ने भारत के लिए उड़ान भर ली है। इन विमानों को भारतीय वायुसेना के पायलट उड़ा रहे हैं और ये रीफ्यूलिंग के लिए संयुक्त अरब अमीरात के अल धाफरा एयरबेस पर रुकेंगे।

भारत और फ्रांस के बीच हुए समझौते के अनुसार, दोनों देशों को कुल 36 वायुसेना पायलटों को फ्रेंच एविएटर्स द्वारा राफेल लड़ाकू जेट पर प्रशिक्षित किया जाना है। जहां अधिकांश वायुसेना के पायलटों को फ्रांस में प्रशिक्षित किया जाएगा, वहीं कुछ भारत में अभ्यास करेंगे। खास बात ये है कि इन विमानों को भारतीय पायलट ही उड़ाकर ला रहे हैं। पहली खेप में भारत को 10 लड़ाकू विमान डिलीवर किए जाने थे लेकिन विमान तैयार न हो पाने की वजह से फिलहाल पांच विमान भारत पहुंचेंगे।

चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच राफेल विमान का भारत पहुंचना महत्वपूर्ण माना जा रहा है। इससे भविष्य में राफेल विमानों की डिलीवरी में तेजी आने की आशंका है। वायुसेना अधिकारियों ने कहा कि राफेल विमानों के आने के बाद वायुसेना की लड़ाकू क्षमताओं में और वृद्धि होगी। बता दें कि भारत ने लगभग 58 हजार करोड़ रुपये में 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए सितंबर 2016 में फ्रांस के साथ एक अंतर-सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

https://www.bharatkhabar.com/actor-sonu-sood-gave-tractor-to-farmer/
भारत में राफेल के पहुंचते ही उम्मीद की जा रही है कि, राफेल का शानदार स्वागत हो सकता है। राफेल के भारत में आने से भारत के पास दुनिया का सबसे बड़ा ताकतवर विमान चीन और पाकिस्तान के पर कुरत देगा।

Related posts

शीला दीक्षित के निधन पर सोनियां गांधी हुईं भावुक बताया बड़ी बहन

bharatkhabar

माता-पिता बनने वाले सवाल पर प्रियंका-निक ने दिया ये जवाब

Rani Naqvi

प्रधानमंत्री मोदी उदयपुर में करेंगे 15 हजार करोड़ की परियोजनाओं का शिलान्यास

piyush shukla