featured यूपी

आजादी के बाद पहला अवसर जब राष्ट्रपति ने किया रामलला का दर्शन

रामलला का दर्शन किया

Brij Nandan

अयोध्या।भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने रविवार को अयोध्या पहुँचकर रामलला का दर्शन किया और रामजन्मभूमि परिसर में रूद्राक्ष का पौधा लगाया। भारत के राष्ट्रपति के रूप में रामलला का दर्शन करने वाले वह पहले राष्ट्रपति हैं। आजादी के बाद यह पहला अवसर है जब भारत का राष्ट्रपति रामलला का दर्शन करने अयोध्या पहुँचा है। रामनाथ कोविद से पूर्व कोई राष्ट्रपति पद पर रहते हुए रामलला का दर्शन करने नहीं आया। वर्ष 1983 में तत्कालीन राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह भी अयोध्या आए थे लेकिन वह रामलला का दर्शन करने नहीं गये थे।
राष्ट्रपति ने परिवार सहित रामलला के दरबार में पहुँचकर मत्था टेका और भगवान की आरती उतारी। रामलला के पुजारी आचार्य सत्येन्द्र दास ने राष्ट्रपति का अंगवस्त्र भेंटकर सम्मानित किया। वहां पर श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपतराय भी मौजूद रहे।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविद रामजन्मभूमि पहुँचने से पहले हनुमानगढ़ी पहुँचकर हनुमंतलला का दर्शन किया। इसके बाद राष्ट्रपति का काफिला रामजन्मभूमि परिसर पहुँचा। वहां उन्होंने रामलला के दर्शन किए। वैदिक मंत्रों के बीच उन्होंने पत्नी सविता कोविन्द के साथ रामलला की आरती उतारी।

रामलला के प्रधान पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने पूजा-अर्चना करवाई। राष्ट्रपति ने राम मंदिर का निर्माण कार्य भी देखा। राष्ट्रपति को राम मंदिर निर्माण की प्रगति से श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपतराय ने अवगत कराया। राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने विराजमान रामलला से चंद कदमों के फासले पर दक्षिण दिशा में रुद्राक्ष का पौधा रोपित किया। पौधरोपण के समय विश्व हिन्दू परिषद के संरक्षक दिनेश भी मौजूद रहे। एक वर्ष पूर्व पांच अगस्त को राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन कार्यक्रम में आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामजन्म भूमि परिसर में पारिजात का पौधा रोपित किया था।

रविवार को अयोध्या पहुंचने पर राष्ट्रपति का भव्य स्वागत आठ मंचों से किया गया। यह पहली बार है, जब किसी राष्ट्रपति ने रामलला के दर्शन किए।  राष्ट्रपति रामनाथ कोविद रामजन्मभूमि पहुँचने से पहले हनुमानगढ़ी पहुँचकर हनुमंतलला का दर्शन किया। उनके साथ राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य भी मौजूद रहे।

Related posts

कैन्ट विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल ने किया मेरठ दक्षिण की मोदी-योगी रसोई का निरीक्षण

Rani Naqvi

लखनऊ: IT की रेड के बाद कांग्रेस ने किया मौन प्रदर्शन, कहा मीडिया पर हमला दुर्भाग्यपूर्ण

Shailendra Singh

Uttarakhand Election: उत्तराखंड भाजपा में किस प्रत्याशी को मिलेगी कौन सी सीट, जानिए किन सीटों पर स्थिति है एकदम साफ

Neetu Rajbhar