featured यूपी

व्‍हील चेयर पर हाईकोर्ट पहुंचे बुजुर्ग ने कहा- ‘मैं जिंदा हूं’… जानिए पूरा मामला

व्‍हील चेयर पर हाईकोर्ट पहुंचे बुजुर्ग ने कहा- ‘मैं जिंदा हूं’… जानिए पूरा मामला

प्रयागराज: इलाहाबाद हाईकोर्ट के सामने एक बुजुर्ग खुद को जिंदा साबित करने के लिए व्‍हील चेयर पर पहुंचा। बुजुर्ग को सुरक्षा के साथ उच्‍च न्‍यायालय में पेश किया गया।    

दरअसल, जार्जटाउन के रहने वाले बुजुर्ग अजय यशवंत नेहरू खुद को जीवित साबित करने के लिए मंगलवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट में पेश हुए। इस दौरान उन्हें सुरक्षा के साथ व्हील चेयर पर अदालत में हाजिर किया गया।

हाईकोर्ट ने सबूतों के आधार पर की पहचान   

हाईकोर्ट के एकलपीठ के जस्टिस पंकज भाटिया ने उनकी पहचान के कागजात देखकर कहा कि, ‘याचिका में लगाए गए फोटो और जो व्यक्ति कोर्ट में उपस्थित हैं, उनसे ऐसा लगता है कि दोनों एक ही हैं।’ इससे पहले अदालत ने पुलिस से अजय यशवंत नेहरू को हाजिर करने को कहा था, ताकि उनके जीवित या मृत होने के विवाद का समाधान हो सके।

बुजुर्ग को 24 घंटे सुरक्षा देने का निर्देश    

हाईकोर्ट में पेश हुए अजय यशवंत नेहरू ने कहा कि, उनकी जान को खतरा है। बुजुर्ग ने जार्जटाउन में अमरनाथ झा मार्ग स्थित अपने मकान का निवासी होने के कागजात भी पेश किए। इस पर अदालत ने वरिष्‍ठ पुलिस अधीक्षक को निर्देश देते हुए कहा कि, ‘अजय यशवंत नेहरू को 24 घंटे सुरक्षा मुहैया कराई जाए। साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाए कि उनकी जान व स्वतंत्रता पर किसी प्रकार का आंच न आने पाए।’

दूसरे पक्ष का आरोप- अजय यशवंत नेहरू की हो चुकी है मौत  

बुजुर्ग ने उच्‍च न्‍यायालय में दाखिल याचिका में कहा कि, कुछ लोग उनके मकान पर कब्जा करना चाहते हैं और इसीलिए उन्हें मृत बताकर उनकी जमीन के कागजात तैयार करा लिए हैं, जबकि वह जिंदा हैं। वहीं, अगली सुनवाई के लिए अदालत ने अजय यशवंत नेहरू को व्यक्तिगत रूप से पेश न होने की छूट दे दी। उधर, दूसरे पक्ष का कहना है कि अजय यशवंत नेहरू की मौत हो चुकी है और फर्जी व्यक्ति उनके नाम से संपत्ति को कब्जा करने का प्रयास कर रहा है।

Related posts

तेलंगाना में एलपीजी सिलेंडर के गोदाम में लगी आग, 40 सिलेंडर हुए ब्लास्ट

Rani Naqvi

चार साल की मासूम के साथ रेप, पॉक्सो एक्ट के तहत पुलिस ने दर्ज किया मामला

mahesh yadav

एक दिन के लिए भी सीएम की कुर्सी छोड़ने को तैयार नहीं फडणवीस, शिवसेना भी जिद पर अड़ी

Rani Naqvi