September 29, 2022 1:13 am
Breaking News यूपी

डाक विभाग ने किया ये काम, ताकि किसी भाई की कलाई सूनी ना रहे

08 08 2019 india post 19471824 डाक विभाग ने किया ये काम, ताकि किसी भाई की कलाई सूनी ना रहे

लखनऊ। भाई-बहन के अटूट रिश्ते में प्यार की मिठास घोलने वाले रक्षाबंधन का पर्व देशभर में धूमधाम से मनाया गया। इस रिश्ते को और अटूट बनाए रखने के लिए डाक विभाग ने रविवार की छुट्टी होने के बाद भी डाकघरों को खोला। साथ ही पोस्टमैन में लोगों तक राखी पहुंचाईं। वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव के मुताबिक वाराणसी में ही दस हजार से ज्यादा लोगों तक राखी रविवार को पहुंचाई गई।

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने बताया के सैकड़ों लोग ऐसे हैं जो कोरोना वॉरियर्स के रूप में काम रहे हैं। अपने घर तक नहीं जा पाए हैं। ऐसे कर्मवीर भाईयों तक भी बहनों की ओर से भेजी गई राखियों को डाकियों द्वारा पहुँचाई गईं। पुलिसकर्मियों से लेकर डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ तक को रविवार को राखी डाक वितरित की गई। जबकि वाराणसी परिक्षेत्र में आने वाले इलाकों में राखी त्यौहार पर लगभग एक लाख राखी डाक का डाकघरों द्वारा वितरण किया गया।

IMG 20210822 WA0007 डाक विभाग ने किया ये काम, ताकि किसी भाई की कलाई सूनी ना रहे

डाक विभाग द्वारा जब डाकिए राखी लेकर भाईयों के पास पहुंचे तो लोग इमोशनल हो गए और इस प्रयास की सराहना करने के साथ ही शुक्रिया भी अदा करना नहीं भूले। कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि सोशल मीडिया पर डाक विभाग की इस पहल की खूब तारीफ हो रही है। काशी हिंदू विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग के प्रोफेसर, साहित्यकार, लेखक और स्तंभकार प्रो. सदानंद शाही को जब रविवार के दिन डाकिया बाबू ने उनकी बहन की राखी दी तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

उन्होंने लिखा कि, “आज सुबह-सुबह हमारे पोस्टमैन शत्रुघ्न नारायण सिंह बहन मुन्नी की राखी लेकर आये और रक्षाबंधन का शगुन पूरा हुआ। रक्षाबंधन की पहली बधाई अपने पोस्टमैन को जो त्यौहार के बावजूद घर-घर रक्षाबंधन की खुशी बांट रहे हैं। ऐसे समय में खुशी बांटने का संकल्प मूल्यवान तो है ही आवश्यक भी।” महमूरगंज में रहने वाले नीतिश कुमार ने बताया कि वे अपनी बहन द्वारा भेजी गई राखी अब तक न प्राप्त होने पर मायूस हो चले थे, पर रविवार की सुबह जब पोस्टमैन ने घर पर आकर राखी का लिफाफा दिया तो खुशी का ठिकाना न रहा।

अवकाश होने के बावजूद रविवार को डाक विभाग द्वारा राखी का घर-घर जाकर वितरण करना और यह सुनिश्चित करना कि किसी भाई की कलाई सूनी न रह जाए, डाकघरों की अहमियत और उनके अनूठे सेवा भाव को दर्शाता है। चिट्ठियों के माध्यम से खुशियां बिखेरते रहने वाले डाक विभाग ने रिश्तों के इस त्यौहार को भी एक नया आयाम दिया है।

Related posts

कंगना रनौत ने बाल ठाकरे के इंटरव्यू से शिवसेना पर बोला हमला

Samar Khan

पौधारोपण अभियान से मजबूत होंगी बीजेपी की जड़ें, 10 जुलाई तक चलेगा कार्यक्रम

Aditya Mishra

Rape Case: Anurag Kashyap को भेजा गया समन, गवर्नर तक पहुंचा मामला

Aditya Gupta