yogi ji सीएम योगी ने दी गोपाष्टमी की शुभकामनाएं, पढ़ें क्यों मनाया जाता है ये त्यौहार, क्या है पूजा की विधि

हर साल कार्तिक शुक्ल अष्टमी को गोपाष्टमी के त्यौहार के रूप में मनाया जाता है. इस साल यानि 2020 में गोपाष्टमी 22 नवंबर को मनाई जा रही है. बता दें इस दिन भगवान श्री कृषण ने गौ चरण लील शुरू की थी. पुराणों के अनुसार कार्तिक शुक्ल अष्टमी के दिन मां यशोदा ने भगवान कृष्ण को गौ चराने के लिये जंगल भेजा था. इस दिन गो, ग्वाल और कृष्ण जी को पूजा जाता है.

मुख्यमंत्री योगी ने दी शुभकामनाएं
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देशवासियों को गोपाष्टमी की शुभकामनाएं दी हैं. सीएम योगी ने ट्वीट करके हुए लिखा है कि-
अनादि काल से पूजनीय गोमाता, जीवन और जीविका की आधार एवं सम्पूर्ण सृष्टि की पालक हैं. आध्यात्मिक व सांस्कृतिक उन्नयन की कारक हैं गोमाता. आइए, इस गोपाष्टमी पर गोपालन, गो-सेवा व गो-रक्षा का प्रण लें.

पावन गोपाष्टमी पर्व की समस्त देशवासियों को शुभकामनाएं.
yogi tweet सीएम योगी ने दी गोपाष्टमी की शुभकामनाएं, पढ़ें क्यों मनाया जाता है ये त्यौहार, क्या है पूजा की विधि
इसी के साथ बीते दिन सीएम योगी ने गोपाष्टमी को लेकर कई घोषणाएं भी की और ट्वीट कर उनकी जानकारी दी. सीएम योगी ने लिखा कि- गोपाष्टमी के अवसर पर सभी गो-आश्रय स्थलों पर संरक्षित गोवंश का खुरपका-मुंहपका रोगों से संबंधित टीकाकरण किया जाएगा.
कुपोषित परिवारों के सुपोषण हेतु ‘मा. मुख्यमंत्री निराश्रित/बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना’ के अन्तर्गत गो-आश्रय स्थलों से गाय उपलब्ध कराई जाएंगी.
गोमाता के प्रति आस्था स्वरूप गोपाष्टमी के शुभ अवसर पर जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में सभी गो-आश्रय स्थलों पर विशेष कार्यक्रमों का आयोजन होगा.
tweet 2 सीएम योगी ने दी गोपाष्टमी की शुभकामनाएं, पढ़ें क्यों मनाया जाता है ये त्यौहार, क्या है पूजा की विधिtweet 3 सीएम योगी ने दी गोपाष्टमी की शुभकामनाएं, पढ़ें क्यों मनाया जाता है ये त्यौहार, क्या है पूजा की विधि

कैसे की जाती है पूजा ?
गोपाष्टमी के शुभ अवसर पर गौशाला में गोसंवर्धन हेतु गौ पूजन का आयोजन किया जाता है. गौमाता पूजन कार्यक्रम में सभी लोग परिवार सहित उपस्थित होकर पूजा अर्चना करते हैं. इसके लिए दीपक, गुड़, केला, लडडू, फूल माला, गंगाजल इत्यादि वस्तुओं से इनकी पूजा की जाती है. महिलाएं गऊओं से पहले श्री कृष्ण की पूजा कर गऊओं को तिलक लगाती हैं. गायों को हरा चारा, गुड़ इत्यादि खिलाया जाता है तथा सुख-समृद्धि की कामना की जाती है. बाद में सभी को प्रसाद वितरण किया जाता है. सभी लोगों को गौ माता का पूजन कर उसके वैज्ञानिक तथा आध्यात्मिक महत्व को समझ गौ रक्षा व गौ संवर्धन का संकल्प करते हैं.

सना खान ने मौलाना मुफ्ती अनस से किया निकाह, हाल ही में छोड़ी थी फिल्म इंडस्ट्री

Previous article

आखिर क्यों भारती ने चुना ड्रग्स का रास्ता! क्या स्टारडम ने भुला दिया ‘मुश्किल अतीत’?

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.