रावड़ी देवी के परिवार को मारने की साजिश हो रही हैं

नई दिल्ली। बिहार में लालू यादव के परिवार को लेकर बिहार की सियासत काफी गरमाई हुई हैं। बता दे कि बिहार सरकार की ओर से पूर्व सीएम रावड़ी देवी और उऩके परिवार की सुरक्षा कम की गई हैं जिसको लेकर सिसयासत गरमा गई हैं। बता दे कि पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के सरकारी आवास 10,सर्कुलर रोड की सुरक्षा में तैनात बीएमपी-2 के 32 कमांडो को मंगलवार की देर शाम पुलिस मुख्यालय ने वापस बुला लिया। इसके बाद से ही बिहार की सियाससत गरमा गई हैं औऱ आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला शुरू हो गया हैं।

बता दे किसुरक्षा कम करने से गुस्साएं राजद के 15 विधायकों ने और राबड़ी देवी, तेजप्रताप, तेजस्‍वी ने सुरक्षागार्ड वापस कर दिये हैं। बता दे कि राबडी देवी की ओर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखा गया हैं जिसमें रावड़ी देवी ने नीतीश कुमार से सवाल किया हैं कि हमारी सुरक्षा के साथ खिलवाड़ आखिर किसके इशारे पर हो रहा है। उन्‍होंने कहा कि मुझे और मेरे परिवार को मारने की साजिश रची जा रही है।

इस संबंध में एडीजी (मुख्यालय) एसके सिंघल ने बताया कि लालू प्रसाद और राबड़ी देवी के सरकारी आवास से सुरक्षा वापस लेने का निर्णय विशेष शाखा की समिति ने लिया है। वहीं, आइजी (सुरक्षा) बच्‍चू सिंह मीणा ने कहा कि लालू परिवार की सुरक्षा न तो बढ़ाई गई है और न हीं परिवार के किसी सदस्‍य की सुरक्षा हटाई गई है। इस बीच लालू प्रसाद के पुत्र व नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव और राबड़ी देवी ने बाडीगार्ड लेने से इंकार कर दिया।

बुधवार की सुबह योगदान देने आये सुरक्षागार्ड को को वापस लौटा दिया गया। इसके साथ ही राजद के विधायक और विधान पार्षदों ने भी सुरक्षा नहीं लेने का निर्णय लिया है। इसके बाद राबड़ी देवी, तेजस्‍वी यादव, तेजप्रताप यादव के सभी सुरक्षाकर्मी वापस पुलिस मुख्‍यालय लौट गए हैं। राबड़ी आवास बिना सुरक्षाकर्मी के है।

बता दे कि सुरक्षा वापस लिए जाने के फैसले पर रावड़ी देवी ने साफ कह दिया हैं कि यें फैसला इसलिए लिया गया हैं क्योकि उनके परिवार को मारने की कोशिश की जा रही हैं। रावड़ी देवी ने कहा कि वो और उऩका परिवार डरने वाला नहीं हैं ऊपर भगवान और नीचे जनता है। हमें दोनों पर भरोसा है। बता दे कि तेजस्‍वी ने कहा कि दस महिनों से सुरक्षा को लेकर और उसे बढ़ाने के लिए कई बार गृह विभाग को लिखा हैं लेकिन बढ़ाने की वजह उसे कम कर दिया हैं।

बता दे कि उन्होनें कहा कि सीबीआइ की पूछताछ के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा सुरक्षा गार्ड हटाया जाना किसी बड़ी साजिश की ओर इशारा करते हैं। तेजस्वी ने यह भी कहा कि हम डरपोक नहीं हैं कि जो अपनी सुरक्षा में 800 जवान तैनात रखते हैं। हमारे द्वारा लौटाए गए सुरक्षाकर्मियों को नीतीश कुमार अपनी सुरक्षा में तैनात कर लें। हम तो गरीब जनता के बीच रहने वाले लोग हैं।

तेजस्‍वी ने कहा कि मेरी माता श्रीमती राबड़ी देवी जी ने पूर्व CM की हैसियत से प्राप्त सुरक्षा, मेरे भाई को विधायक के नाते और मुझे नेता प्रतिपक्ष के नाते प्राप्त सुरक्षा को बिहार के सीएम नीतीश कुमार को वापस सौंप रहे है ताकि वो तुच्छ ईर्ष्यालु कार्य छोड़ सकारात्मक कार्यों पर ध्यान केन्द्रित कर सके। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि आज दिन में नीतीश कुमार ने असंवैधानिक तरीक़े से मुझे नेता प्रतिपक्ष के नाते कैबिनेट मंत्री के समान प्राप्त अधिकारों को दरकिनार करते हुए सरकारी आवास ख़ाली करने का नोटिस निर्गत करवाया है और शाम को परिवार की सुरक्षा कटौती के लिए दूत भेज दिए।

राजद के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा कि राबड़ी देवी पूर्व मुख्‍यमंत्री हैं, तेजस्‍वी यादव नेता प्रतिपक्ष हैं, उन्‍हें कैबिनेट मंत्री का दर्जा है, ऐसे में नीतीश कुमार गलत काम कर रहे हैं। यह काफी खतरनाक खेल हो रहा है। बता दे कि फिलहाल लालू यादव चारा घोटाला मामलें में सजा काट रहे हैं और फिलहाल उनकी तबियत खराब होने की वजह से वो अभी एम्स में अपना इलाज करवा रहे हैं। बता दे कि लालू यादव के परिवार में उनके बड़े बटे तेजप्रताप की शादी की खबरें में भी खूब जोरों पर हैं।