b4d39245 0bf5 4351 b70c f44d3b271b15 वाराणसी की देव दिपावली में पहली बार शामिल होंगे पीएम नरेंद्र मोदी, गंगा के 84 घाटों पर जलाए जाएंगे 15 लाख दीए
फाइल फोटो

वाराणसी। सनातन धर्म में हर दिन का विशेष महत्व होता है। इसके साथ ही कार्तिक पूर्णिमा यानी आज के दिन देवता स्वर्ग लोक से उतरकर दीपदान करने पृथ्वी पर आते हैं, इसलिए इस दिन को देव दिपावली के नाम से भी जाना जाता है। यह पर्व दिपावली के ठीक 15 दिन बाद कार्तिक पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। र्म नगर काशी में इस दिन गंगा स्नान, पूजन, हवन और दीपदान का कार्यक्रम किया जाता है। पूरी काशी को रौशनी से सजाया जाता है और घाटों को दीप जलाकर जगमगाया जाता है। इसके साथ ही पीएम मोदी का संसदीय क्षेत्र और भोले की नगरी वाराणसी आज दीयों की छटा से नहाया हुआ नजर आएगा। सोमवार को वाराणसी दौरे पर जा रहे पीएम मोदी गंगा के घाटों पर अलौकिक दृश्य के साक्षी बनेंगे। ये पहली बार होगा जब प्रधानमंत्री काशी की देव दीपावली में शामिल होंगे। पीएम मोदी की मौजूदगी में इस बार वाराणसी के घाटों पर लेजर शो का भी आयोजन किया गया है।

देव दिपावली से इस कार्यक्रम में शामिल होंगे पीएम मोदी-

बता दें​ कि वाराणसी में देव दीपावली के मौके पर गंगा के 84 घाटों पर लगभग 15 लाख दीए जलाए जाएंगे। काशी तट लगभग 15 लाख दीपों से जगमगा उठेगा। खास बात यह है कि पहला दीपक खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों से प्रज्ज्वलित होगा। देव दिवाली के कार्यक्रम में हिस्सा लेने से पहले प्रधानमंत्री मोदी छह लेन वाली राष्ट्रीय राजमार्ग 19 को राष्ट्र के नाम समर्पित करेंगे। ये सड़क वाराणसी को प्रयागराज से जोड़ेगी। इस सड़क के निर्माण में 2447 करोड़ रुपये की लागत आई है। इस सड़क के खुलने के बाद वाराणसी-प्रयागराज की दूरी तय करने में एक घंटा कम समय लगेगा। पीएम मोदी की मौजूदगी में इस बार वाराणसी के घाटों पर लेजर शो का भी आयोजन किया गया है। जिस तरह से अयोध्या के लेजर शो ने दुनिया को उसकी दिपावली की भव्यता से रूबरू कराया, कुछ वैसी ही कोशिश इस बार बनारस के घाटों पर भी होगी।?

काशी विश्वनाथ धाम का तेजी से प्रगति पर-

वहीं काशी विश्वनाथ कॉरिडोर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है। 55 हजार स्क्वायर मीटर में बन रहे इस कॉरिडोर का भव्य स्वरूप अब दिखने लगा हैं काशी विश्वनाथ धाम अब राजस्थान और मिर्जापुर के गुलाबी पत्थरों से सजने भी लगा है। तराशे गए करीब 65 हजार क्यूबिक फीट गुलाबी पत्थरों की पहली खेप पहुंचने के बाद काम अब तेजी से चल रहा है। जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी 30 नवंबर यानी सोमवार को साढ़े छह घंटे तक वाराणसी में रहेंगे। इस दौरान वह बाबा विश्वनाथ के दर्शन भी करेंगे। साथ ही गंगा नदी पर तैनात क्रूज़ से वह देव दिवाली भी देखेंगे।

Trinath Mishra
Trinath Mishra is Sub-Editor of www.bharatkhabar.com and have working experience of more than 5 Years in Media. He is a Journalist that covers National news stories and big events also.

जिला कलेक्ट्रेट ने ब्लॉक लेवल अधिकारियों को दिए मतदान केंद्रों का निरीक्षण करने का आदेश, इन जगहों का किया गया निरीक्षण

Previous article

बढ़ते तापमान के कारण ऑस्ट्रेलिया के जंगलो में लगी आग, 41 डिग्री के पार पहुंचा पारा

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.