स्वास्थ :चश्मा पहनने वाले होते हैं ऐसे, रिसर्च में हुआ खुलासा

नई दिल्ली।  अक्सर जब हम किसी को चश्मा पहने हुए देखते हैं तो हमारें मन में ये बात जरुर उठती है कि जरुर यें काफी पढ़ाकू किस्म का होगा और ये काफी इंटेलीजेंट भी होगा। एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि चश्मा पहनने वाले लोग चश्‍मा नहीं पहनने वालों के मुकाबले आईक्‍यू के मामले में 30 प्रतिशत अधिक बुद्विमान होते हैं। इस रिसर्च में शामिल वैज्ञानिकों ने पाया है कि बुद्धिमत्‍ता और चश्‍मा पहनने का एक दूसरे से गहरा नाता है। ये बात 16 से 102 की उम्र के 3 लाख लोगों के आनुवंशिक आंकड़ों का विश्लेषण करने वाले वैज्ञानिकों ने ऐसा एक अध्‍ययन में खुलासा किया है।

 

 

क्यो पहनना चाहिए चश्मा

धूप से बचाने के लिए

आंखे सबसे नाजुक होती हैं। आपकी आंखों और उसकी सबसे नाजुक त्वचा को धूप से बचने की जरूरत है। आपके शरीर के ये नाजुक हिस्से धूप सहन नहीं कर पाते और इन्हें खासा नुकसान होता है। इसमें आंखों के सफेद हिस्से का पीला पड़ना शामिल है। धूप के चश्में इससे आपको बचाते हैं। अगर आप चश्‍मा पहनते है तो यूवी प्रोटेक्‍टेड ग्‍लासेज का यूज करके धूप की हानिकारक किरणों से बच सकते हैं।

झुर्रियों से बचाव

सूरज की गर्मी आपकी त्वचा को खराब कर देती है। झुर्रियों से आपका चेहरा बेनूर और बदसूरत लग सकता है। चश्‍में पहनने से आप इन चीजों से बच सकते है। कम्‍प्‍यूटर पर काम करते वक्‍त चश्‍मा पहनकर आप झुर्रियों से बच सकते है।

कैसे पहने चश्में

जब भी आप घर से बाहर जायें तो सनग्लास पहनें इससे आपकी त्वचा पर सूरज की गर्मी का असर कम पड़ेगा। अक्सर लोग सोचते हैं कि उन्हें कौन से सनग्लास पहनना चाहिए तो आप अपने लिए प्लास्टिक फ्रेम वाला चश्मा चुनिए। मेटल फ्रेम वाले चश्में में धूप रिफलेक्ट होकर आपके गालों पर आती है।

इससे आपकी त्वचा को भारी नुकसान होता है। प्लास्टिक फ्रेम चश्में आपको इससे बचाते हैं। साथ ही अधिक से अधिक बचाव के लिए बड़ी फ्रेम वाले चश्में चुनें।इससे ये सनग्लास आपको धूप से राहत दिलायेगा।