September 26, 2022 9:42 am
featured देश

कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए रेलवे का बड़ा फैसला, 31 मार्च तक यात्री ट्रेनों का परिचालन बंद

भारतीय रेल कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए रेलवे का बड़ा फैसला, 31 मार्च तक यात्री ट्रेनों का परिचालन बंद

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए रेलवे ने बड़ा फैसला लिया है. देशभर में 31 मार्च तक यात्री ट्रेनों का परिचालन नहीं होगा. इस आदेश से सिर्फ मालगाड़ी को छूट दी गई है. पीआईबी की ओर से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक, कोरोना वायरस को लेकर उठाए जाने वाले कदम के मद्देनजर भारतीय रेल ने प्रीमियम ट्रेन, मेल/एक्सप्रेस, पैसेंजर, उपनगरीय ट्रेन, कोलकाता मेट्रो रेल, कोंकण रेलवे समेत सभी यात्री ट्रेन सेवाओं को 31 मार्च तक बंद करने का फैसला किया है. हालांकि उपनगरीय ट्रेनों और कोलकाता मेट्रो रेल की बहुत सीमित सेवाएं 22 मार्च तक चलती रहेंगी.

इसमें कहा गया है कि जो ट्रेनें 22 मार्च को सुबह चार बजे से पहले अपनी यात्रा शुरू कर चुकी हैं वे अपने गंतव्य स्थान तक जाएंगी, यात्रियों के लिए पर्याप्त व्यवस्था की जाएगी. जरूरी सामानों की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए माल ढोने वाली ट्रेनों की आवाजाही जारी रहेगी. यात्री रद्द की गई सभी ट्रेनों का पूरा रिफंड 21 जून तक ले सकते हैं.

इससे पहले एक सूत्र ने कहा था कि अभी केवल 400 मेल एक्सप्रेस ट्रेनें चल रही हैं.  ये ट्रेनें एक बार मंजिल पर पहुंचकर बंद हो जाएंगी. उसके बाद एक भी ट्रेन नहीं चलेगी. जानकारी के अनुसार, सभी बड़े स्टेशनों को खाली किया जाएगा.

बता दें कि कोरोना वायरस को लेकर देश में मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. भारत में अब तक कोरोना वायरस से 324 मामले सामने आए हैं. आज 9 मामले बढ़े हैं. कोरोना मामलों की संख्या में एक दिन में 79 की बढ़ोतरी हुई है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि शनिवार को रात 10 बजकर 45 मिनट 315 मामलों में 22 लोग इस बीमारी से ठीक हो गए हैं. दुनियाभर में 3 लाख से ज्यादा लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं और करीब 13,000 लोगों की मौत हो चुकी है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार रात को शहर से गांव लौट रहे लोगों से आग्रह किया. उन्होंने कहा कि कोरोना के भय से मेरे बहुत से भाई-बहन जहां रोजी-रोटी कमाते हैं, उन शहरों को छोड़कर अपने गांवों की ओर लौट रहे हैं. भीड़भाड़ में यात्रा करने से इसके फैलने का खतरा बढ़ता है. आप जहां जा रहे हैं, वहां भी यह लोगों के लिए खतरा बनेगा. आपके गांव और परिवार की मुश्किलें भी बढ़ाएगा.

उन्होंने आगे लिखा, “मेरी सबसे प्रार्थना है कि आप जिस शहर में हैं, कृपया कुछ दिन वहीं रहिए. इससे हम सब इस बीमारी को फैलने से रोक सकते हैं. रेलवे स्टेशनों, बस अड्डों पर भीड़ लगाकर हम अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं. कृपया अपनी और अपने परिवार की चिंता करिए, आवश्यक न हो तो अपने घर से बाहर न निकलिए.

Related posts

केन्द्र सरकार की नीति के चलते विकास की रफ्तार रूकी- डॉ मनमोहन सिंह

piyush shukla

डोकलाम पर जापान की नसीहत पर भड़का चीन

piyush shukla

आलोक वर्मा सीबीआई के निदेशक नहीं रहे, एक दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट के आदेश से लौटे थे

Rani Naqvi