पंचायत चुनाव नजदीक, जिले में लगातार मिल रहे अवैध कारतूस, जानिए क्या हुई कार्रवाई

फतेहपुर: जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए मतदान होने में अब बहुत कम समय शेष है, वहीं चुनावों में वोटरों को डराने के लिए अपराधी भी नए नए हथकंडे अपना रहे हैं। फतेहपुर के विभिन्न इलाकों से अपराधियों के पास से तमंचे और कारतूस बरामद हो रहे हैं।

कहां से आ रहा कारतूस का जखीरा

बता दें कि जिले के विभिन्न इलाकों से पिछले 15 दिनों में 25 कारतूस बरामद हुए हैं। उल्लेखनीय है कि अपराधियों द्वारा अवैध तमंचे तो बनाए जा सकते हैं, लेकिन अवैध कारतूस बनाना संभव नही है। दरअसल अपराधियों के पास से जो भी कारतूस बरामद हुए हैं, वो वह सभी फैक्ट्री में बने हैं।

ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि आखिरकार कारतूसों का यह जखीरा आ कहां से रहा है? इसके साथ ही अभी न जाने कितने लोगों के पास इस तरीके के अवैध कारतूस होंगे? इसके अलावा एक यक्ष प्रश्न ये भी उठ रहा है कि जो लोग इन कारतूसों की बिक्री करते हैं, आखिरकार पुलिस उन तक पहुंच क्यों नही पा रही है?

विभिन्न इलाकों में चल रही धरपकड़

गौरतलब है कि अपराधों पर नियंत्रण के लिए पुलिस अवैध कारतूसों की धरपकड़ लगातार जारी रखे हुए है। पुलिस के आंकड़ों की बात करें तो पिछले 15 दिनों में अलग-अलग थाना क्षेत्रों से करीब 25 कारतूस और छह कारतूस के खोखे बरामद हुए हैं।

इसके साथ ही सभी आरोपियों के पास से अवैध तमंचे भी जब्त किए गए हैं। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए जेल तो भेज दिया है, लेकिन कारतूस बेचने वाले मास्टरमाइंड की गिरफ्तारी अभी भी कोसों दूर है।

विभिन्न इलाकों से मिल रहे कारतूस

विदित हो कि पुलिस को जो कारतूस मिले हैं उनमें से खखरेरू से आठ, हुसैनगंज से चार, कोतवाली से चार, हथगांव से तीन, धाता-मलवां से दो-दो कारतूस मिले हैं। वहीं असोथर, ललौली और थरियांव से एक-एक कारतूस बरामद हुए हैं।

इनमें से ज्यादातर कारतूस 315 के हैं, जबकि कुछ कारतूस 12 बोर के हैं। इस दौरान अलग-अलग थानों से छह कारतूस के खोखे भी बरामद हुए हैं। इनमें भी अधिकतर 315 बोर शामिल है।

देसी बम मिलने से मचा हड़कंप 

दरअसल पुलिस ने 22 मार्च को खखरेरू थाना क्षेत्र से 12 बोर के दो कारतूस बरामद किए. इसके अलावा 24 मार्च को जाफरगंज थाना क्षेत्र से आठ देशी बम और 25 मार्च को धाता से दो कारतूस 315 बोर के और 26 मार्च को हुसैनगंज से दो कारतूस 315 बोर बरामद किए।

पुलिस अब तक है खाली हाथ

इसके अलावा पुलिस ने 27 मार्च को खखरेरू से दो कारतूस तो वहीं 30 मार्च को असोथर से एक जिंदा और एक खोखा कारतूस 12 बोर बरामद किया।

वहीं 31 मार्च को कल्याणपुर से दो देशी बम के अलावा खखरेरू से एक जिंदा कारतूस 315 बोर का बरामद किया। इसके अतिरिक्त हथगांव से 315 बोर का एक कारतूस बरामद किया है। इसी तरीके से विभिन्न इलाकों से पुलिस ने बड़ी मात्रा में खोखे और कारतूस बरामद किए हैं।

जल्द मिलेगा अहम सुराग: एसपी

ऐसे में सवाल उठता है कि पुलिस अवैध तरीके से बन रही इन कारतूसों की फैक्ट्री के मालिकों पर कब तक कार्रवाई की जाएगी।

वहीं मामले पर बयान देते हुए पुलिस अधीक्षक सतपाल आंतिल ने कहा कि अवैध कारतूस कहां से आ रहा है इसके लिए टीमें लगाई गई थीं।

हालांकि अभी तक पुलिस को कोई सफलता हाथ नहीं लगी है। उन्होंने कहा कि जल्द ही पुलिस को महत्वपूर्ण सुराग मिलेगा और अवैध कारतूस बेचने वालों की चेन को तोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी।

कोरोना के बीच फॉर्मेसी कौंसिल के पूर्व चेयरमैन ने दिया अहम संदेश

Previous article

पंचायत चुनाव : पहले चरण में जानिए किस पद पर है मारामारी

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured