vijay diwas 1971 जब भारतीय सेना के आगे पाकिस्तानी सेना ने टेके थे घुटने

नई दिल्ली। भारत के वीरों को ललकारने वाले पाकिस्तानी सैनिकों को आज ही के दिन भारतीय सेना ने हराकर इतिहास रचा था। 16 दिसंबर का वो दिन सभी भारतीयों को याद होगा क्योंकि इसी दिन भारतीय सैनिकों ने पूर्वी पाकिस्तान को पाकिस्तान से अलग करके नए राष्ट्र बांग्लादेश को जन्म दिया, जिसे विजय दिवस का नाम दिया गया।

13 दिन टिक सकी सेना

साल 1971 में हुए भारतीय सेना के साथ मुकाबले में रण के मैदान में पाकिस्तान की सेना सिर्फ 13 दिन ही टिक पाई थी। यह 13 दिन इतिहास के पन्नों में सिर्फ इसलिए दर्ज है क्योंकि युद्ध के दिनों की संख्या कम है। इस लड़ाई में ना सिर्फ पाकिस्तानी सेना हार गई थी बल्कि पाक के 93 हजार सैनिकों ने भारतीय सेना ने आत्मसमर्पण कर दिया था।

vijay_diwas_1971

विश्व का पहला आत्मसमर्पण

आधुनिक सैन्य काल में इस पैमाने पर किसी फौज के आत्मसमर्पण का यह पहला मामला था। इस युद्ध में विजय के बाद पाकिस्तान की सेना ने बिना किसी शर्त के समपर्ण किया।

3,900 भारतीय जवान इस जंग में हुए थे शहीद

भारत-पाक युद्ध के समय जनरल सैम मानेकशॉ भारतीय सेना के प्रमुख थे। इस जंग के बाद बांग्लादेश के रूप में विश्व मानचित्र पर नए देश का उदय हुआ। पाकिस्तान के साथ होने वाले इस युद्ध में भारत के लगभग 4 हजार जवान शहीद हो गए थे। साथ ही 9,851 जवान घायल हो गए थे।

indian-army

नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

इस गौरवपूर्ण दिन को मनाने और वीर शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए 16 दिसबंर के दिन को विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस अवसर पर तीनों सेनाओं के प्रमुख, देश के रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने इंडिया गेट स्थित अमर जवान ज्योति पर श्रद्धा समुन अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

अकेला तू पहल कर, देख तुझको काफिला खुद बन जाएगा !

Previous article

आरा में मजदूरी मांगने पर मजदूर की पीट-पीटकर हत्या

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.