india pakflags 647 042916030103 081416111940 030917111832 डब्ल्यूटीओ की बैठक में शामिल नहीं होगा पाक, भारत को बताया वजह

इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गनाइजेशन की बैठक में शामिल होने से साफ इंकार कर दिया है और इसके लिए उसने भारत को जिम्मेदार ठहराया है। दरअसल दिल्ली में 20 मार्च  को वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गनाइजेशन की बैठक होनी है, जिसमें पाकिस्तान ने ये कहते हुए आने से साफ इंकार कर दिया कि भारत में उसके राजनयिकों के साथ उत्पीड़न होता है। भारत ने पाकिस्तान के वाणिज्य मंत्री परवेज मलिक को वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गनाइजेशन में शामिल होने का निमंत्रण भेजा था, जिसे पाकिस्तान ने अस्वीकार कर दिया है। पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि दिल्ली में होने वाली डब्ल्यूटीओ की मीटिंग में पाकिस्तान की तरफ से कोई शामिल नहीं होगा। उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान ने अपने इस फैसले से भारत को अवगत करा दिया है। भारत हमारे राजनयिकों को प्रताड़ित करता है।

अधिकारी ने धमकी भरे लहजे में कहा कि भारत हमे हल्के में नहीं ले सकता, वे कश्मीरियों को मारना चाहता है, हमारे राजनयिकों का भारत में जीना मौहाल है उन लोगों का वहां उत्पीडन किया जा रहा है। पाक के खिलाफ साजिश रची जाती है और फिर हमें आमंत्रित किया जा रहा है। गौरतलब है कि इस समिट में पाकिस्तान के अलावा भारत ने अमेरिका और चीन समेत 50 देशों के मंत्रियों को आमंत्रित किया है। गौरतलब है कि पाकिस्तान ने आरोप लगाया था कि भारत में मौजूद उसके राजनयिकों और उनके परिवारों को परेशान किया जा रहा है। जबकि पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग को प्रताड़ित किया जा रहा है लेकिन इन्‍होंने मीडिया के सामने ये जाहिर नहीं किया है। india pakflags 647 042916030103 081416111940 030917111832 डब्ल्यूटीओ की बैठक में शामिल नहीं होगा पाक, भारत को बताया वजह

इस मामले पर बातचीत के लिए पाकिस्तान ने अपने हाई कमिश्नर सोहेल महमूद को भी बुलाया था। जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान ने gov.in डोमेन वाली सभी भारत सरकार की वेबसाइट्स को ब्लॉक कर दिया है। जिससे वहां नियुक्त राजनयिक और अधिकारी सरकारी वेबसाइट्स को ना देख सकें। भारत ने कहा है कि वह वियना समझौते का पूरी तरह पालन करता है और मानता है कि कूटनीतिक स्तर पर कई मसले हल होने चाहिए। भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि अपने राजनयिकों को बातचीत के बुलाना एक सामान्य प्रक्रिया है। जाहिर है पाकिस्तान जानबूझकर इसे राजनयिकों के उत्पीड़न से जोड़ने की कोशिश कर रहा है।

मालूम हो कि इस्लामाबाद में भारतीय राजनयिकों को तरह-तरह से प्रताड़ित किया जा रहा है। वहां भारतीय राजनयिकों के लिए बन रहे एक आवासीय कांप्लेक्स के लिए बिजली-पानी की लाइन काट दी गई, जिसे शिकायत के बावजूद ठीक नहीं किया जा सका है। इसके अलावा विदेशी राजनयिकों को स्वाभाविक तौर पर मिलने वाली इस्लामाबाद क्लब की सदस्यता में भी भारतीय राजनयिकों को परेशान किया गया और गृहमंत्रालय से क्लीयरेंस नहीं मिलने का बहाना बनाकर उन्हें इससे वंचित रखा गया। तमाम उत्पीड़न के बाद भी भारत ने कभी सार्वजनिक तौर पर यह मुद्दा नहीं उठाया। बल्कि पाक विदेश सचिव से मिलकर भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया ने इन बातों को रखा।

RSS की ओर से पहली बार होने जा रहा हैं सीमा के निकट हिंदू महासंगम

Previous article

सोनिया ने किया मोदी सरकार पर वार, बोली-विपक्ष की आवाज दबा रही सरकार

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.