August 15, 2022 12:00 am
featured Mobile भारत खबर विशेष साइन्स-टेक्नोलॉजी

देश में नए नाम के साथ आ रहा ‘पब्जी’, प्राइवेसी-सिक्योरिटी पर फोकस

pubg देश में नए नाम के साथ आ रहा ‘पब्जी’, प्राइवेसी-सिक्योरिटी पर फोकस

LAC पर भारत-चीन के बीच तनाव के बाद से भारत सरकार ने पब्जी गेम पर बैन लगा दिया था। हालांकि करीब 10 महीने बाद पब्जी की भारत में नए नाम के साथ वापसी हो रही है। इस बार इसे ‘बैटलग्राउंड्स मोबाइल इंडिया, नाम दिया गया है।

प्राइवेसी-सिक्योरिटी पर ज्यादा फोकस

एंड्रॉयड यूजर्स के लिए गूगल प्ले स्टोर पर इस गेम के प्री रजिस्ट्रेशन शुरू हो गए हैं। ‘बैटलग्राउंड्स मोबाइल इंडिया’ में लोगों को पबजी जैसा ही एक्सपीरियंस मिलेगा, लेकिन हिंसा पहले से कम होगी। वहीं प्राइवेसी और सिक्योरिटी पर ज्यादा फोकस दिया गया है।

pubj देश में नए नाम के साथ आ रहा ‘पब्जी’, प्राइवेसी-सिक्योरिटी पर फोकस
गेम में खून-खराबा कम होगा

एक रिपोर्ट के मुताबिक पब्जी के ग्लोबल वर्जन के मुकाबले ‘बैटलग्राउंड्स मोबाइल इंडिया’ थोड़ा अलग होगा। मैप पर लैंड करने के बाद सभी प्लेयर पूरे कपड़ों में होंगे। गेम में खून-खराबा कम होगा, और खून का रंग भी लाल ना होकर हरा होगा। हालांकि मैप पब्जी जैसा ही होगा।

pubbg देश में नए नाम के साथ आ रहा ‘पब्जी’, प्राइवेसी-सिक्योरिटी पर फोकस

प्राइवेसी-पैरंट कंट्रोल पर ज्यादा फोकस

बताया जा रहा है कि यूजर्स को पुरानी पब्जी आईडी और उस खेल में मिली उपलब्धियां यहां नहीं दी जाएंगी। इस गेम को लॉन्च कर रही दक्षिण कोरियाई कंपनी क्राफ्टन का फोकस प्राइवेसी और पैरंट कंट्रोल पर ज्यादा है। सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक यूजर्स का डाटा इंडिया में स्टोर किया जाएगा।

pbug देश में नए नाम के साथ आ रहा ‘पब्जी’, प्राइवेसी-सिक्योरिटी पर फोकस

रोजाना 3 घंटे ही खेलने की इजाजत

इस गेम को 18 साल से कम उम्र के बच्चों को खेलने के लिए अभिभावक का मोबाइल नंबर कंपनी के साथ शेयर करना होगा। बच्चों को रोजाना 3 घंटे ही खेलने की इजाजत होगी। साथ ही 7 हजार रुपए से ज्यादा की रोजाना खरीदारी भी नहीं कर पाएंगे।

आसान नहीं होगा जगह बनाना

देश में पब्जी को बेन हुए करीब 10 महीने से ज्यादा हो गए हैं। इस दौरान लोगों की कॉल ऑफ ड्यूटी, फ्री फायर, फौजी जैसे गेम पसंद बन चुके हैं। ऐसे में ‘बैटलग्राउंड्स मोबाइल इंडिया’ के लिए पब्जी वाली पॉजीशन को पाना आसान नहीं होगा। विशेषज्ञों के मुताबिक इस गेम के लौटने से देश के ई-गेमिंग सेक्टर में तेजी आ सकती है। और देश का मोबाइल गेमिंग मार्केट अगले 4 साल में 25 हजार करोड़ के आंकड़े को पार कर सकता है।

Related posts

स्वघोषित संत और सतलोक आश्रम के प्रमुख रामपाल को हिसार कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद की सजा

rituraj

यूपी पुलिस में बड़े पैमाने पर ट्रांसफर, 88 दरोगा और 138 हेड कॉन्‍स्‍टेबल की बदली 

Shailendra Singh

रबी फसलों के लिए MSP बढ़ाने का कैबिनेट का फैसला किसानों के लिए अधिकतम लाभकारी मूल्य सुनिश्चित करेगा: प्रधानमंत्री

Nitin Gupta