January 25, 2022 7:22 am
featured देश

करुणानिधि के निधन पर बेटे ने लिखी एक भावुक चिट्ठी,इस चिट्ठी का शीर्षक ”क्या एक बार मैं आपको ‘अप्पा’ बुला सकता हूं?

करुणानिधि के निधन पर बेटे ने लिखी एक भावुक चिट्ठी,इस चिट्ठी का शीर्षक ''क्या एक बार मैं आपको 'अप्पा' बुला सकता हूं?

नई दिल्ली: डीएमके प्रमुख एम करुणानिधि के निधन से पूरे तमिलनाडु में शोक का माहौल बना है। अपने चहेते नेता के जाने से लोगों का रो रो कर बुरा हाल है। कल जैसे ही करुणानिधि के निधन की खबर आई कावेरी अस्पताल के बाहर हजारों की तादाद में समर्थक इकट्ठे हो गए। इस बीच करुणानिधि के बेटे और डीएमके नेता एमके स्टालिन ने एक भावुक चिट्ठी लिखी है। इस चिट्ठी का शीर्षक है, ”क्या एक बार मैं आपको ‘अप्पा’ बुला सकता हूं?

 

karuna nidhi son करुणानिधि के निधन पर बेटे ने लिखी एक भावुक चिट्ठी,इस चिट्ठी का शीर्षक ''क्या एक बार मैं आपको 'अप्पा' बुला सकता हूं?

 

ये भी पढें:

डीएमके प्रमुख और तमिलनाडु के पूर्व सीएम एम करुणानिधि का कावेरी अस्पताल में हुआ निधन
डीएमके अध्यक्ष एम करुणानिधि की तबियत एक बार फिर बिगड़ी,अस्पताल के बाहर समर्थकों का लगा तांता

 

एमके स्टालिन ने अपनी चिट्ठी में लिखा, ”आप जहां भी जाते थे मुझे बता कर जाते थे। अब आप मुझे बिना बताए कहां चले गए? आप हमें ऐसी हालत में छोड़ कर कहां चले गए। 33 साल पहले आपने बताया था कि आपके समाधि स्थल पर क्या लिखा जाए: ”यहां वो शख्स लेटा है जिसने अपने पूरे जीवन में बिना थके काम किया। क्या अब आपने तय कर लिया कि तमिल समाज के लिए पर्याप्त काम कर लिया? या आप कहीं छुप गए हैं ये देखने के लिए कि क्या कोई आपके 80 साल की उपलब्धियों को पीछे छोड़ सकता है?”

ये भी पढें:

समाधि स्थल मामले पर HC में बोली सरकार, करुणानिधि वर्तमान सीएम नहीं इसलिए नहीं दे सकते जगह 
तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम प्रमुख एम. करुणानिधि की बिगड़ी तबियत,कावेरी अस्पताल में भर्ती

 

”तीन जून, आपके जन्मदिन पर मैंने दुआ कि आपके आधे गुण मुझमें आ जाएं। क्या अब आप मुझे वो दिल देंगे जो आपको बहुत पहले अगिगनार अन्ना से मिला था। क्योंकि उस महत्वपूर्ण दान से हम आपके अधूरे सपने और आदर्शों को पूरा कर सकेंगे।”

 

”करोड़ों उडनपिरापुक्कल (करुणानिधि डीएमके कार्यकर्ताओं के इसी नाम से बुलाते थे, इसका अर्थ है खून के भाई) की ओर से मैं आपसे प्रर्थना करता हूं कि एक बार वो शब्द ‘उडनपिराप्पे’ कहें जिससे हम सदी तक काम कर सकें। मैंने अपने जीवन में आपको अप्पा की जगह हमेशा थलाइवार (नेता) कह कर बुलाया। कम से कम अब क्या एक बार मैं आपको अप्पा कह कर बुला सकता हूं।”

ये भी पढें:

करुणानिधि के निधन के बाद अस्पताल के बाहर जुडी समर्थकों की भीड, समर्थकों ने की तोडफोड
द्रमुक कार्यकारी अध्यक्ष का बयान कहा, करुणानिधि की बीमारी के सदमे से 21 पार्टी कार्यकर्ताओं की हुई मृत्यु

 

By: Ritu Raj

Related posts

सितंबर में आखिरी सेमेस्टर की परीक्षा को लेकर यूजीसी ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की याचिका

Rani Naqvi

ममता बनर्जी लोकसभा चुनाव से पहले 19 जनवरी को करेंगी रैली, देशभर के विपक्षी दलों को न्योता

Rani Naqvi

अखिलेश ने दिया बुआ को रिटर्न गिफ्ट, एमएलसी की एक सीट बीएसपी को सौंपी

lucknow bureua