featured दुनिया

अब चीन और ताइवान में शुरू नया विवाद, जाने क्या है नए विवाद की वजह

96458250 5ee6ee4b 8f55 4863 b305 c20735f3cb21 अब चीन और ताइवान में शुरू नया विवाद, जाने क्या है नए विवाद की वजह

कुछ दिनों पहले चीन ने ताइवान से उसके 2 किस्मों के सेबों को आयात नहीं करने की धमकी दी। अब ताइवान ने इस मामले को विश्व व्यापार संगठन में ले जाने की धमकी दी है। दोनों देशों के बीच फलों के व्यापार को लेकर ताजा छिड़े विवाद में चीन ने खतरनाक किटाणुओं का हवाला देते हुए। सेब की 2 किस्मों यानि शुगर एपल और और वैक्स एपल जिसे हम शरीफा भी कहते हैं। उनके आयात को रोकने की धमकी दी है। चीन का कहना है कि उनकी उनके यहां की फसलों को इन किटाणुओं से नुकसान पहुंचने की आशंका है। चीन के कस्टम विभाग का कहना है कि उसे ताइवान के शुगर एपल में पलाइनो कोकस माइनर नाम के कीट बार-बार मिले इसने अपनी ग्वीडो शाखा और उससे जुड़ी सभी शाखाओं को कस्टम पर इन फलों को रोकने लिए कहा है।

p03 210302 aa2 अब चीन और ताइवान में शुरू नया विवाद, जाने क्या है नए विवाद की वजह

वहीं चीन के कृषि मंत्री चेन ची चुंग ने कहा कि ये चीन का किसी वैज्ञानिक कारण बताए एक तरफा व्यवहार है। साथ ही उन्होंने चीन के इस फैसले की आलोचना की है। चेन ने कहा कि हम इसे कबूल नहीं कर सकते हैं। साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि ताइवान ने चीन से कहा कि अगर वह 30 सितंबर से पहले मौजूदा समस्या का हल ढ़ूंढने के अनुरोध का जवाब नहीं देता तो इस मसले को व्यापार संगठन के सामने लेकर जाएंगे। चेन ने ये भी कहा कि चीन सरकार इससे प्रभावित किसानों की मदद के लिए 100 मीलियम टाइपे डॉलर खर्च करेगी।

download 18 अब चीन और ताइवान में शुरू नया विवाद, जाने क्या है नए विवाद की वजह

इसी साल फरवरी के महीने में ताइवान से अनानास खरीदने पर हानिकारक जीवों का हवाला देते हुए प्रतिबंध लगाया था। तब ताइवान ने कहा था कि ये उनके देश पर दबाव बनाने की एक चाल है। दशकों से चीन की कम्यूनिस्ट सरकार का दावा है कि ताइवान एक देश नहीं चीन का ही एक प्रांत है। हालांकि ताइवान ने हमेशा इस दावे को खारिज किया है। चीन में हुए गृहयुद्ध में माओत्से तुंग के नृतत्व में कम्यूनिस्टों ने चियांग कई शेक के नृतत्व वाली राष्ट्रवादी कोमिंग तांग पार्टी को 1949 में हराया था। इसके बाद कॉमिंगतांग ने ताइवान में जाकर अपनी सरकार बनाई। दूसरे विश्वयुद्ध में जापान ने हार के बाद कॉमिंगतांग को ताइवान का नियंत्रण सौंपा था।

लेकिन जब कॉमिंगतांग ने अपनी सरकार बनाई तो सवाल ये उठा कि जापान ने ताइवान किस को दिया था तब चीन में कम्यूनिस्ट सत्ता में थे और ताइवान में कॉमिंगतांग का शासन था।

Related posts

यूपीए सत्ता में आई तो मिलेगी न्यूनतम आय की गारंटी, एक साल में कम से कम 72 हजार रूपए मिलेंगे

bharatkhabar

पार्टी के नियमों ने अनजान हैं भाजपा के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र

bharatkhabar

राजस्थानः कालीचरण सराफ ने कहा है कि बुजुर्गों की देखभाल हमारा सामाजिक दायित्व है

mahesh yadav