पासपोर्ट बनवाने के लिए अब नहीं करना होगा इंतजार, जानिए क्या है नया नियम

गोरखपुर: विदेश यात्रा करने के लिए वीजा और पासपोर्ट की भी आवश्यकता होती है। पासपोर्ट एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है, जिसे बनवाने के लिए कई बार ऑफिसों के चक्कर भी लगाने पड़ते हैं, लेकिन अब इसमें राहत दी जा रही है।

15 दिन के अंदर हो जाएगी पुलिस जांच

जो लोग पासपोर्ट के लिए आवेदन देते हैं, उन्हें पुलिस जांच प्रक्रिया से भी गुजरना होता है। जहां पुलिस विभाग से जुड़े लोग जाकर पूरी जांच पड़ताल करते हैं। किसी भी तरह की परेशानी ना होने पर उनकी तरफ से ग्रीन सिग्नल दे दिया जाता है। इसके बाद विभाग की तरफ से पासपोर्ट जारी होता है।

कई बार इस प्रक्रिया में काफी लंबा वक्त लग जाता है, जिससे समय रहते आवेदकों को पासपोर्ट नहीं मिल पाता है। इसी से जुड़े मामले में अब नया अपडेट सामने आया है, जहां यह कहा गया है कि आवेदन करने के बाद मात्र 15 दिन के अंदर पुलिस जांच पूरी कर ली जाएगी। यह आदेश पुलिस प्रशासन को मानना होगा।

एक अगस्त से लागू होगी नई व्यवस्था

पासपोर्ट का आवेदन करने पर पहले 21 दिन के अंदर पुलिस जांच पूरी होती थी, जिसे अब घटाकर 15 दिन कर दिया गया है। नई व्यवस्था को आने वाले 1 अगस्त से लागू कर दिया जाएगा। इतना ही नहीं, अगर पुलिस विभाग की तरफ से समय रहते अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाई गई तो ₹100 प्रति पासपोर्ट के हिसाब से उनपर चार्ज लगेगा।

दरअसल पुलिस विभाग की तरफ से जब कोई कर्मचारी जांच के लिए जाता है तो उन्हें ₹150 दिए जाते हैं। नए आदेश के बाद अगर पुलिस कर्मी द्वारा 15 दिन के अंदर जांच प्रक्रिया को नहीं पूरा किया गया तो मात्र उन्हें ₹50 मिलेंगे। देरी होने के कारण ₹100 चार्ज काट लिया जाएगा। इतना ही नहीं, पासपोर्ट जांच में हुई देरी की वजह भी बतानी होगी।

ऑनलाइन प्रक्रिया से आएगी तेजी

पासपोर्ट जांच की प्रक्रिया पुलिस विभाग में कई चरणों में संपन्न होती है। ऐसे में कई बार काफी वक्त लग जाता था। एम पासपोर्ट पुलिस एप का इस्तेमाल करके पासपोर्ट जांच का सत्यापन ऑनलाइन तरीके से कर लिया जाएगा। इससे काफी समय की बचत होगी।

गोरखपुर की बात करें तो यहां हर दिन 350 युवाओं को पासपोर्ट सेवा केंद्र पर अपॉइंटमेंट दिया जाता है। जबकि आवेदन की बात करें तो हर दिन लगभग 2000 लोग पासपोर्ट के लिए अप्लाई करते हैं। हालांकि इस केंद्र पर आसपास के जिलों से भी लोग आते हैं। पुलिस जांच की बात करें तो गोरखपुर पुलिस के द्वारा 1 महीने में लगभग 200 लोगों का वेरिफिकेशन होता है, अब इसमें तेजी आएगी।

लखनऊ: कांग्रेस पर जातिवाद का आरोप लगा पानी की टंकी पर चढ़ा पूर्व नेता, समझिए पूरा मामला

Previous article

सोनिया गांधी ने संसद ग्रुप का किया गठन, अधीर रंजन ही रहेंगे लोकसभा में विपक्ष के नेता

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured