नवरात्रि पर विशेष: उपवास रखते हैं तो एक बार इसे जरूर पढ़ें, आपको मिलेगी नई दिशा

नवरात्रि पर विशेष: उपवास रखते हैं तो एक बार इसे जरूर पढ़ें, आपको मिलेगी नई दिशा

नवरात्रि के दिनों में व्रती व्यक्ति को अपने खानपान को लेकर बेहद सावधानी बरतनी चाहिए। यूं तो बाजार में भी व्रत की थाली व अन्य खाने पीने का सामान मिल जाता है, लेकिन कोशिश करें कि आप घर का बना साफ−सुथरा भोजन ही करें। नवरात्रि का तो मौका ही होता है, मैया के प्रति अपना अथाह प्रेम और श्रद्धाभाव प्रदर्शित करने का। यूं तो मैया अपने भक्तों पर हमेशा ही अपनी कृपा दृष्टि बनाए रखती है। लेकिन नवरात्रि के नौ दिन भक्तगण भी उपवास करके मैया को प्रसन्न करने की कोशिश करते हैं। पर क्या आप जानते हैं कि नवरात्रि व्रत रखने के भी अपने नियम होते हैं और अगर कोई भी व्यक्ति नवरात्रि पर व्रत रखने का विचार कर रहा है तो उसे पहले इन नियमों को जान लेना चाहिए। तो चलिए जानते हैं नवरात्रि पर उपवास रखते समय किन बातों का रखें ध्यान−
यूं तो नवरात्रि के नौ दिन व्रत रखना बेहद शुभ माना जाता है। लेकिन जिन लोगों के लिए पूरे नौ दिन व्रत रखना संभव नहीं होता, उन्हें जोड़ा तो अवश्य रखना चाहिए। ऐसे लोगों को हमेशा पहले व आखिरी दिन व्रत करना चाहिए।
साल के बाकी दिन आप भले ही कितने भी आलसी बने रहें, लेकिन अगर आप मैया को प्रसन्न करने व उनकी कृपा दृष्टि का पात्र बनने के लिए व्रत रख रहे हैं तो पूरे नौ दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठें और नहाएं। इसके बाद सूर्य देव को जल दें और फिर अपने घर के पूजास्थल या मंदिर में जाकर यथावत पूजन करें।
नवरात्रि के दिनों में व्रती व्यक्ति को अपने खानपान को लेकर बेहद सावधानी बरतनी चाहिए। यूं तो बाजार में भी व्रत की थाली व अन्य खाने पीने का सामान मिल जाता है, लेकिन कोशिश करें कि आप घर का बना साफ−सुथरा भोजन ही करें। आप चाहें तो बाजार में मिलने वाले चिप्स आदि का सेवन कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त व्रत के दौरान प्याज, लहसुन आदि का प्रयोग बिल्कुल भी न करें।
व्रत के दौरान कुछ चीजों को करना निषेध माना गया है और व्रती व्यक्ति को भी वह कार्य करने से परहेज करना चाहिए। जैसे−
इन नौ दिनों में नाखून या बाल नहीं काटना चाहिए।
किसी का भी दिल न दुखाएं और झूठ न बोलें।
इधर−उधर की बातों में समय व्यर्थ न करें। जितना हो सके, अपना समय मैया के ध्यान में व उनके भजन आदि में लगाएं।
नहाने के लिए साबुन का प्रयोग न करें, क्योंकि उसमें केमिकल होते हैं और नहाते समय वह मुंह में जा सकते हैं। बेहतर होगा कि आप केमिकल युक्त साबुन इस्तेमाल करने की बजाय नहाने के पानी में थोड़ा सा सेंधा नमक या नीम या गुलाब जल डालकर नहाएं।
इसी तरह ब्रश करने के लिए केमिकल युक्त टूथपेस्ट का प्रयोग करने की बजाय नौ दिनों तक नीम की दातुन से दांत साफ करें और गर्म पानी से कुल्ला करें। वैसे आप चाहें तो कोयले या सरसों का तेल व नमक से दांत साफ करें।