September 26, 2022 4:13 pm
Breaking News यूपी

सजपा (चंद्रशेखर) से नवनीत चतुर्वेदी निष्कासित

WhatsApp Image 2021 08 19 at 7.52.01 PM सजपा (चंद्रशेखर) से नवनीत चतुर्वेदी निष्कासित

लखनऊ। पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर सिंह की पार्टी समाजवादी जनता पार्टी सियासत में एक बार फिर से खड़े होने की तैयारी कर रही है। इस पार्टी ने यूपी विधानसभा की सभी सीटों पर लड़ने की तैयारी की है। लेकिन इस बीच पार्टी दो गुटों में बंटती दिखाई देने लगी है। सजपा के राष्ट्रीय सचिव और मशहूर लेखक नवनीत चतुर्वेदी को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है। उन पर पार्टी के खिलाफ गतिविधियों को अंजाम देने का आरोप लगा है।

समाजवादी जनता पार्टी चंद्रशेखर के राष्ट्रीय प्रवक्ता संतोष कुमार सिंह ने बताया कि नवनीत चतुर्वेदी लगातार पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त थे। उनको कई बार चेतावनी दी गई लेकिन उन्होंने कोई सुधार नहीं किया। संतोष कुमार सिंह ने बताया कि नवनीत चतुर्वेदी के खिलाफ आ रही शिकायतों की जांच अनुशासन समिति ने भी की थी। वो लगातार सोशल मीडिया पर पार्टी के खिलाफ पोस्ट लिख रहे थे। उनके खिलाफ कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों की लगातार शिकायतें आ रहीं थीं। अनुशासन समिति की जांच ये शिकायतें सही पाई गईं हैं।

WhatsApp Image 2021 08 19 at 6.42.37 PM सजपा (चंद्रशेखर) से नवनीत चतुर्वेदी निष्कासित

संतोष कुमार सिंह ने बताया कि अनुशासन समिति की रिपोर्ट आने के बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्याम जी त्रिपाठी के निर्देश पर महासचिव प्रदीप गोपालकृष्णन ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया है। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी चंद्रशेखर सिंह के आदर्शों पर चलने वाली पार्टी है। अनुशासनहीनता को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

गौरतलब है कि नवनीत चतुर्वेदी मशहूर लेखक हैं। उनकी किताब जिओ पॉलिटिक्स पिछले दिनों खूब चर्चा में रही है। उनके लेख कई अखबारों और मैग्जीन में छपते रहे हैं। पार्टी के लोगों की शिकायत थी कि वो लगातार सोशल मीडिया पर अपने लेखों की वजह से पार्टी की किरकिरी करा रहे थे। इसका विरोध किया गया था लेकिन वो अपनी गतिविधियों को लगातार अंजाम देते जा रहे थे।

Related posts

परिवार भारत की सबसे बड़ी ताकत: प्रधानमंत्री मोदी

bharatkhabar

शराब बंदी को लेकर महिलाओं का प्रदर्शन, सड़क को घंटों किए रखा जाम

Rahul srivastava

सीएम केजरीवाल की बढ़ीं मुसीबतें, दिल्ली में हो सकते हैं मध्यावधि चुनाव

piyush shukla