featured देश

कोरोना के खिलाफ दुनिया की पहली DNA वैक्सीन, हर वैरिएंट पर असरदार

ZyCov D कोरोना के खिलाफ दुनिया की पहली DNA वैक्सीन, हर वैरिएंट पर असरदार

कोरोना वायरस के खिलाफ फार्मा कंपनी जाइडस कैडिला ने ड्रग कंट्रोलर से अपनी वैक्सीन जायकोव डी के आपात इस्तेमाल की मंजूरी मांगी है। भारत में अबतक मंजूर किए गए टिको में ये कई मायनों में अलग टीका है।

टीनएजर्स पर भी ट्रायल सफल

इस वैक्सीन का देश में 28 हज़ार लोगों पर ट्रायल किया गया है। कंपनी के मुताबिक इस वैक्सीन का 12 से 18 साल के करीब एक हजार टीनएजर्स पर भी ट्रायल किया गया, और इसे पूरी तरह सुरक्षित पाया गया। लक्षण वाले मरीजों में इसके 66.6% कारगर होने की बात कही गई है।

4-4 हफ्तों के अन्तराल पर 3 डोज

बता दें कि भारत में कोविड-19 का यह सबसे बड़ा क्लिनिकल ट्रायल है। जायकोव डी वैक्सीन तीन डोज़ में आएगी। जिन्हें 4-4 हफ्तों के अन्तराल पर दिया जाएगा। साथ ही इस वैक्सीन को 2 से 8 डिग्री तापमान पर स्टोर किया जा सकेगा। और 25 डिग्री तापमान पर 3 महीने तक रखा जा सकता है।

बीमारी से 100 फ़ीसदी सुरक्षा

वैक्सीन के ट्रायल में देखा गया कि तीसरी डोज के बाद इसने मध्यम दर्जे की बीमारी से 100 फ़ीसदी सुरक्षा की। वहीं दूसरी डोज के बाद किसी भी वॉलिंटियर में कोरोना का गंभीर मामला या मौत नहीं देखी गई। कंपनी का कहना है कि इस वैक्सीन को लगाने में इंजेक्शन का इस्तेमाल भी नहीं होगा। बल्कि यह वैक्सीन नीडल फ्री है। इसे जेट इंजेक्टर के जरिए दिया जाएगा। जिसे फार्माजेट कहा जाता है।

डेल्टा जैसे वैरिएंट पर भी असरदार

खास बात ये है कि इस वैक्सीन के ट्रायल देश में 50 जगहों पर उस वक्त हो रहे थे जब देश में कोविड की तीसरी लहर अपने चरम पर थी। यानी इसका डेल्टा जैसे नए और तेजी से फैलने वाले वैरिएंट पर भी असरदार होने की उम्मीद है।

जायडस कैडिला के एमडी का कहना है कि हमें अगस्त से हर महीने 1 करोड़ डोज बना लेने की उम्मीद है।

Related posts

Good News: वाराणसी में कोरोना संक्रमितों का रिकवरी रेट बढ़ा, वैज्ञानिकों ने कही ये बड़ी बात

Aditya Mishra

अल्मोड़ा की बहुप्रतीक्षित मांग हुई पूरी, राज्य सरकार ने ट्रक पार्किंग के निर्माण को दी मंजूरी

Neetu Rajbhar

प्रणब मुखर्जी के आरएसएस के कार्यक्रम में शामिल होने को लेकर बेटी शर्मिष्ठा ने दिया ये बयान

Rani Naqvi