September 27, 2021 10:14 pm
featured देश

UNSC की बैठक में पीएम मोदी का संबोधन, बोले- दुनिया के लिए साझा धरोहर है समुद्र

सहारनपुरः गुरुवार को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत निःशुल्क राशन वितरण पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सहारनपुर जिले की रहने वाली गृहणी कमलेश से वर्चुअल संवाद किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को समुद्री सुरक्षा और सहयोग बढ़ाने के मामले को लेकर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की उच्‍च स्‍तरीय बैठक की अध्‍यक्षता की। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने UNSC को पांच मंत्र दिए।

UNSC की बैठक में पीएम मोदी का संबोधन

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को UNSC की हाई लेवल मीटिंग की अध्यक्षता की। इस बैठक में समुद्री सुरक्षा और सहयोग बढ़ाने को लेकर चर्चा की गई। बैठक को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने UNSC को पांच मंत्र दिए। जिसमें उन्होंने समुद्र को पूरी दुनिया के लिए साझा धरोहर बताया। साथ ही प्रधानमंत्री ने समुद्री लुटेरों और समुद्र से बढ़ रही आतंकवादी गतिविधियों पर भी संयुक्त राष्ट्र की बैठक में बयान दिया।

‘अंतरराष्ट्रीय क़ानून के आधार पर हो समाधान’

बैठक को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि समुद्री विवाद का समाधान शांतिपूर्ण और अंतरराष्ट्रीय क़ानून के आधार पर होना चाहिए। समुद्र को पूरी दुनिया के लिए साझा धरोहर बताते हुए पीएम ने कहा कि समुद्री रास्ते अंतरराष्ट्रीय व्यापार की जीवन रेखा हैं, लेकिन आज इसे कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। आगे बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हमें समुद्री व्यापार से बाधाओं को हटाना चाहिए. हम सभी की समृद्धि समुद्री व्यापार के के सक्रिय गति पर निर्भर हैं।

समुद्र से बढ़ रही आतंकी घटना- पीएम

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमें समुद्री पर्यावरण और समुद्री संसाधनों को भी संजो कर रखना होगा। समुद्री व्यापार में कोई भी बाधा वैश्विक अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचा सकती है। उन्होंने समुद्री डकैती और आतंकवाद के लिए समुद्री मार्गों के उपयोग और कई देशों में समुद्री विवाद पर चिंता जताई। उन्होंने आगे कहा कि आज आतंकी घटना और समुद्री लुटेरों के लिए समंदर के रास्तों का इस्तेमाल हो रहा है। इसलिए हम इस विषय को सुरक्षा परिषद के पास लेकर आए हैं। पीएम ने कहा कि भारत ने इस दिशा में कई कदम उठाए हैं।

‘समुद्री व्यापार से बाधाओं को हटाना चाहिए’

समुद्री व्यापार में आ रही बाधाओं को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सभी को समुद्री व्यापार से बाधाओं को हटाना चाहिए। सभी की समृद्धि समुद्री व्यापार के के सक्रिय गति पर निर्भर है। इसमें आई अड़चनें पूरी वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए चुनौती हो सकती हैं। इस दौरान पीएम ने एक दूसरे पर भरोसा और विश्वास रखने की बात कही। उन्होंने कहा कि आपसी भरोसा और विश्वास अति आवश्यक है. इसी माध्यम से वैश्विक शांति और स्थिरता सुनिश्चित किया जा सकता है।

‘समुद्री संसाधनों को संजोकर रखना होगा’

एक ओर जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समुद्री व्यापार और समुद्री लुटेरों पर बयान दिया, तो वहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री ने समुद्री संसाधनों को संजोकर रखने की बात कही। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें समुद्री वातावरण और समुद्री संसाधनों को संजोकर रखना होगा। समुद्रों का जलवायु पर सीधा असर होता है और इसलिए, हमें अपने समुद्री वातावरण को प्लास्टिक और तेल के रिसाव जैसे प्रदूषण से मुक्त रखना होगा। साथ ही प्रधानमंत्री ने कहा कि समंदर हमारी पृथ्वी के भविष्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं, लेकिन हमारी इस साझा समुद्री धरोहर को आज कई प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

 

Related posts

लोग नौकरी चाहते हैं और सरकार उनके लिये क्या कर रही है: मंत्री श्रवण कुमार

Trinath Mishra

महिलाओं की इन आदतों की वजह से टूट सकती है शादी

mohini kushwaha

श्रीनगर: ईद के मौके पर सुरक्षाकर्मियों और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प

Pradeep sharma