December 10, 2022 1:22 am
featured देश

राष्‍ट्रीय अल्‍पसंख्‍यक आयोग ने ”124वें संविधान संशोधन विधेयक 2019″ को ऐतिहासिक बताया

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग राष्‍ट्रीय अल्‍पसंख्‍यक आयोग ने ''124वें संविधान संशोधन विधेयक 2019" को ऐतिहासिक बताया

राष्‍ट्रीय अल्‍पसंख्‍यक आयोग ने (124वें संविधान संशोधन विधेयक 2019) को ऐतिहासिक बताया है। क्‍योंकि ऐसा पहली बार हुआ कि सामान्‍य वर्ग से संबंधित अल्‍पसंख्‍यक समुदायों को भी आरक्षण का लाभ मिलेगा। राष्‍ट्रीय अल्‍पसंख्‍यक आयोग के अध्‍यक्ष सैयद गैय्यूरुल हसन रिज़वी ने आज कहा कि आयोग संसद में यह विधेयक पारित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी का आभार व्‍यक्‍त करता है।

 

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग राष्‍ट्रीय अल्‍पसंख्‍यक आयोग ने ''124वें संविधान संशोधन विधेयक 2019" को ऐतिहासिक बताया

इसे भी पढ़ें-नेपाल : संविधान संशोधन प्रस्ताव के खिलाफ प्रदर्शन

माना जाता है कि यह विधेयक सामान्‍य वर्ग से संबंधित अल्‍पसंख्‍यक समुदायों के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के एक बड़े वर्ग के लिए लाभदायक सिद्ध होगा। सैयद गैय्यूरुल हसन रिज़वी और राष्‍ट्रीय अल्‍पसंख्‍यक आयोग के अन्‍य सदस्‍यों ने यह उम्‍मीद जाहिर की है। यह विधेयक लक्षित लाभार्थियों के लिए लाभदायक होगा और उनके बेहतर भविष्‍य का मार्ग प्रशस्‍त करेगा।

हालांकि सवर्ण आरक्षण से जुड़े संविधान संशोधन बिल के संसद में पास होने के एक दिन बाद ही मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया है। दरअसल आर्थिक रूप से कमजोर सामान्य श्रेणी के लोगों को सरकारी नौकरियों और शिक्षा में 10 प्रतिशत आरक्षण देने वाले संविधान संशोधन बिल के मामले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है। संसद से इस बिल को मंजूरी मिलने के अगले ही दिन सुप्रीम कोर्ट में एक संगठन ने याचिका दायर कर चुनौती दी है।

इसे भी पढ़ेंःLIVE: दस पीसदी आरक्षण, संविधान के अपमान की सोची-समझी साजिश-आनंद शर्मा

बता दें कि ‘यूथ फॉर इक्वैलिटी’ नाम के संगठन की याचिका में संविधान संशोधन को आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ बताया है। जनरल कोटा को चुनौती देने वाली याचिका में कहा गया है कि आर्थिक मापदंड आरक्षण का एकमात्र आधार नहीं हो सकता है।

याचिका में इसे संविधान के बुनियादी ढांचे के खिलाफ बताया गया है। संगठन ने जनरल कोटा को समानता के अधिकार और संविधान के बुनियादी ढांचे के खिलाफ कहा है। याचिका में यह भी कहा गया है कि गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान ‘नागराज बनाम भारत सरकार’ मामले में दिए गए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के भी खिलाफ है।

इसे भी पढ़ें-क्या 10% आरक्षण कोटा वाले गरीब सामान्य वर्ग के अवसर सीमित हो जाएंगे

Related posts

हरियाणा सरकार ने गाँवों में शराबबंदी के लिए प्रस्ताव पारित करने की अवधि बढ़ाई

Trinath Mishra

एबीवीपी ने किन्नर समाज के साथ मिलकर मनाया स्वतंत्रता दिवस

Shailendra Singh

राहुल ने सेना पर सरकार के रवैये को लेकर पीएम को लिखा खत

Rahul srivastava