WhatsApp Image 2021 07 12 at 14.49.01 कोरोना संकट के बीच लगातार दूसरे साल बगैर श्रद्धालुओं के जगन्नाथ यात्रा चालू,

कोरोना की वजह से इस साल कई यात्राएं रद्द हुईं जिससे श्रद्धालुओं को निराशा का सामना करना पड़ा। हालांकि जगन्नाथ रथ यात्रा आज अपने समय पर निकाली। और कोरोना महामारी प्रतिबंधों के कारण रथ यात्रा भक्तों के बिना ही शुरू की गई।

लोगों ने लाइव किए दर्शन

बता दें ये दूसरी बार था जब पुरी, उड़ीसा में भगवान जगन्नाथ की वार्षिक रथ यात्रा उत्सव ऑनलाइन माध्यम से आयोजित की गई। इससे लोग अपने घरों में आराम से रथ यात्रा उत्सव देख सके और कोरोना वायरस के संक्रमण से भी सुरक्षित रहे।

20 जुलाई तक चलेगी यात्रा

हिन्दू पंचांग के अनुसार, हर वर्ष आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को ही भव्य उत्साह के साथ जगन्नाथ रथ यात्रा निकाले जाने का विधान है। इस वर्ष 2021 में यह पावन यात्रा 12 जुलाई से आरंभ होकर 20 जुलाई तक चलेगी। भगवान जगन्नाथ की ये यात्रा लगभग दस दिनों तक चलती है। जिसमें प्रथम दिन भगवान जगन्नाथ को गुंडिचा माता के मंदिर लेकर जाया जाता है।

कोरोना नियमों का पालन करना जरूरी

पिछले साल की तरह इस साल भी कोरोना के चलते लाखों की संख्या में श्रद्धालु इसमें भाग नहीं ले सकेंगे। लेकिन शास्त्रोंक्त सभी रीति और रस्मों का विधिवत पालन किया जाएगा। कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रशासन द्वारा कई तरह की पाबंदियां लगाई गई है। जगन्नाथ मंदिर के आस-पास धारा 144 लगा दी गई है।

इस साल भी जगन्नाथ रथयात्रा बिना दर्शनार्थियों के ही, पुजारियों, पुरोहितों और सेवकों द्वारा निकाली जाएगी। यात्रा में शामिल होने वाले हर व्यक्ति को कोरोना नियमों का सख्ती से पालन करना होगा। जिसमें कोरोना टीके की दोनों डोज, फेस मास्क, सेनिटेशन और हाथ धोने के उपयोग और सामाजिक दूरी बनाए रखना शामिल होगा।

दूरदर्शन पर रथयात्रा का सीधा प्रसारण

जानकारी दे दें कि कोरोना महामारी के कारण इस साल रथयात्रा का सीधा प्रसारण दूरदर्शन केन्द्र भुवनेश्वर की मदद से गया। और अनुमोदित मीडिया संस्था को लाइव कामन फीड प्रदान किया गया।

पीलीभीत: ससुराल जा रहे युवक और दोस्तों पर बाघ-बाघिन का हमला, दहशत की दास्तां सुनकर चौंक जाएंगे

Previous article

क्या आतंकवादियों का पनाहगार बन रहा लखनऊ? इससे पहले भी हुईं आतंकी घटनाएं

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in देश