October 21, 2021 12:13 pm
featured भारत खबर विशेष यूपी

MSME DAY: IIA वाइस प्रेसिडेंट कृष्ण राजीव सेहगल ने कहा जिला ऑफिस की पावर बढ़नी चाहिए

MSME DAY: IIA वाइस प्रेसिडेंट कृष्ण राजीव सेहगल ने कहा जिला ऑफिस की पावर बढ़नी चाहिए

LUXKNOW:  MSME DAY 2021 यह दिन उद्यमियों के लिए खास दिन है। आज के दिन लघु और मध्यम उद्योग के रूप में मनाया जा रहा है। इस खास मौके पर कृष्ण राजीव सेहगल जो IIA के वाइस प्रेसिडेंट है हमने उनसे मौजूदा उद्योग की स्थिति पर उनकी राय जानने की कोशिश की है।

कृष्ण राजीव सेहगल ने बताया कुछ योजनाएं अच्छी

कृष्ण राजीव सेहगल ने MSME DAY 2021 पर बातचीत के दौरान बताया मौजूदा सरकार की योजनाएं उद्मियों के लिए अच्छी है। लेकिन इन योजनाओं के फॉलोअप में टाइम लगता है। जिसकी वजह से उद्योग से जुड़े लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। मौजूदा हालतों के बावजूद हम लगातार वर्कशॉप कर रहे है। और अपने कार्य को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहे है।

जिला ऑफिस को पावर दी जानी चाहिए-कृष्ण राजीव

कृष्ण राजीव सेहगल ने आगे कहा कहा जिला ऑफिस को पावर दी जानी चाहिए। हमारे उद्योग के मामले में सरकार और हमारे बीच की कड़ी डिस्ट्रिक्ट ऑफिस है। डिस्ट्रिक ऑफिस हमारे और सरकार के बीच की कड़ी का कार्य करता है। ऐसे में डिस्ट्रिक ऑफिस के हाथ में पावर दी जाए। ताकि हम लोगों के कार्य में आसानी हो सके। कोई भी उद्योग के शुरूआत में उद्यमियों को कई तरह की परेशानी को सामना करना पड़ता है अगर सरकार इस बात पर ध्यान देती है तो हमारे लिए राह आसान हो जाएगी।

योजनाओं में लग रहा टाइम

उद्योग के क्षेत्र में कोरोना से पहले का टाइम अच्छा था। कोरोना काल से पहले उद्योग क्षेत्र का माहोल भी काफी अच्छा था। लेकिन कोविड के बाद अभी तक कोई इंड्रस्टी नहीं लग पाई है। छोटी-छोटी इकाइयां भी काम शुरू नहीं कर पा रही है। उम्मीद है कि अब हमें कुछ राहत मिलेगी।

कोविड से मौत पर नहीं कोई सहायता

एमएसएमई 2021 के इस विशेष दिन पर कृष्ण राजीव सेहगल ने कहा कोविड से कई कमाने वाले लोगों की जान गई। कई मजदूर और कर्मचारियों की मौत कोरोना से हुई। सरकार की तरफ से ऐसे लोगों के लिए कोई योजना नहीं है। अब नए उद्योगों को लगाना काफी मुश्किल है। अगर कंपनी लगाने वाले के पास अपने कर्मचारी की मौत के बाद कोई सरकारी सुविधा नहीं होगी तो वह अपने उद्योग को कैसे आगे बढ़ाएगा। सरकार को ऐसे मामले में कुछ योजनाओं पर सोचना चाहिए।

Related posts

अब बिहार के नालंदा में पत्रकार को जान से मारने की धमकी

bharatkhabar

वेस्टइंडीज के कोच का बयान, ‘टीम इंडिया को बुमराह-भुवी की वापसी के लिए मजबूर किया’

mahesh yadav

बुगती आतंकवादी है, भारत उसे शरण न दे : मुशर्रफ

shipra saxena