featured यूपी

सांसद कौशल किशोर ने एक बार फिर उठाई आवाज, ऑक्सीजन किल्लत पर जताई चिंता

सांसद कौशल किशोर ने एक बार फिर उठाई आवाज, ऑक्सीजन किल्लत पर जताई चिंता

लखनऊ: मोहनलालगंज लोकसभा सीट से भाजपा सांसद कौशल किशोर में एक बार फिर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं पर सवालिया निशान खड़ा किया। उन्होंने लखनऊ के ऑक्सीजन गैस प्लांट से जुड़े मामले में अपनी बात रखी। ऑक्सीजन सप्लाई और मरीजों की बदहाल स्थिति पर सांसद ने चिंता जताई।

प्राइवेट अस्पतालों में नहीं मिल ऑक्सीजन

सांसद कौशल किशोर ने कहा कि लखनऊ की ऑक्सीजन गैस प्लांट के मालिकों से भी बातचीत की। उन्होंने बताया कि ड्रग इंस्पेक्टर ने प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन गैस देने पर रोक लगा रखी है। वह लोग सिर्फ सरकारी अस्पतालों में ही सप्लाई करवा रहे हैं। ऐसे में प्राइवेट अस्पताल इन दिनों ऑक्सीजन गैस की किल्लत से जूझ रहे हैं, जिनका खामियाजा मरीजों को और उनके परिजनों को भुगतना पड़ रहा है।

सैकड़ो लोग कर रहे ऑक्सीजन की डिमांड

कौशल किशोर ने कहा कि उनके पास दिन भर में कई फोन आते हैं। जिनमें ऑक्सीजन गैस की डिमांड की जा रही है। प्राइवेट अस्पताल में एडमिट मरीजों को अस्पताल से भगाया जा रहा है। ऑक्सीजन गैस की पर्याप्त मात्रा ना होने के कारण ऐसी स्थिति बन रही है।लखनऊ में माहौल इन दिनों काफी खराब है।

सांसद कौशल किशोर ने एक बार फिर उठाई आवाज, ऑक्सीजन किल्लत पर जताई चिंता

सांसद ने कहा कि इस सिलसिले में उन्होंने ड्रग इंस्पेक्टर से भी बातचीत की। इस दौरान इंस्पेक्टर ने बताया कि उनकी तरफ से किसी तरह की रोक नहीं लगाई गई है। सभी लोगों को ऑक्सीजन गैस प्लांट के माध्यम से उपलब्ध करवाया जा रहा है। इसके पहले भी स्वास्थ्य सुविधाओं और बिगड़ती परिस्थितियों पर कौशल किशोर ने ट्वीट किया था, जिसमें अधिकारियों के द्वारा फोन नहीं उठाए जाने की भी बात कही गई थी।

दूसरे राज्यों से ली जा रही मदद

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश ही नहीं कई जगहों में इन दिनों ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा उपलब्ध नहीं है। लखनऊ सहित कई शहर ऑक्सीजन की किल्लत से जूझ रहे हैं। इसी क्रम में उत्तर प्रदेश सरकार दूसरे राज्यों से ऑक्सीजन की आपूर्ति करवाने की कोशिश कर रही है। ऑक्सीजन एक्सप्रेस के माध्यम से बोकारो से सप्लाई मंगवाई जा रही है। इसके बाद जल्दी ही इस समस्या में सुधार होने की संभावना जताई जा रही है।

Related posts

अंबिका चौधरी को उमाशंकर सिंह ने कहा धोखेबाज, ये है पूरा मामला

sushil kumar

मथुराः जानिए क्या हुआ जब रात में अचानक बिजली उपकेंद्र पहुंचे ऊर्जा मंत्री

Shailendra Singh

एजेंसियों को निजी कंप्यूटर की जांच करने का पूर्ण अधिकार नहीं- गृह मंत्रालय

mahesh yadav