featured Breaking News देश

कैशलेस को बढ़ावा देने के लिए मोदी सरकार ले सकती है चेकबंदी का निर्णय

modi ji कैशलेस को बढ़ावा देने के लिए मोदी सरकार ले सकती है चेकबंदी का निर्णय

नई दिल्ली। मोदी सरकार द्वारा पिछले साल आठ नवंबर को की गई नोटबंदी की उपलब्धिया गिनाने में सरकार व्यस्त है। सरकार ने नोटबंदी देशभर में कैशलेस लेनदेने के बढ़ावा देने और भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए लागू की थी। वहीं अब मोदी सरकार अपने इसी उद्देश्य को आगे बढ़ाने के लिए बैंको में मिलने वाली चेक की सुविधा को भी खत्म कर सकती है
फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स  का कहना है कि  मोदी सरकार जल्द ही चेक की व्यवस्था को खत्म करने का आदेश जारी कर सकती है। संगठन के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल  ने कहा कि सरकार क्रेडिट और डेबिट कार्डों के इस्तेमाल को लगातार बढ़ावा दे रही है, और इसे अधिक सुचारु और लोकप्रिय बनाने के लिए वह चेकबुक की सुविधा को भी खत्म कर सकती है।modi ji कैशलेस को बढ़ावा देने के लिए मोदी सरकार ले सकती है चेकबंदी का निर्णय
उन्होंने कहा कि नोटबंदी से पहवले तक केंद्र सरकार को नए करेंसी नोटों की छपाई पर लगभग  25,000 करोड़ रुपये खर्च किया करती थी, और उनकी सुरक्षा पर 6,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त रकम खर्च करनी पड़ती थी। चेक की सुविधा को खत्म करने से कैशलेस अर्थव्यवस्था की दिशा में कितना लाभ होगा, इस सवाल के जवाब में प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि अधिकतर व्यापारिक लेनदेन चेक के ज़रिये ही होते है। उनका कहना था कि फिलहाल देश में 95 फीसदी लेनदेन नकदी या चेक के ज़रिये ही होते हैं। नोटबंदी के बाद नकदी के लेनदेन में कमी आई, सो, चेकों का इस्तेमाल निश्चित रूप से बढ़ा है।

Related posts

वर्ष 2016 से पहले कोई सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुई, RTI से हुआ बड़ा खुलासा

bharatkhabar

वाराणसी जाएंगे अखिलेश यादव, बाबा काशी विश्वनाथ से लेंगे आशीर्वाद

Shailendra Singh

भारी बारिश से मुंबई बेहाल, सड़क, रेल, हवाई यातायात प्रभावित (वीडियो)

bharatkhabar