लखनऊ की खराब हालत पर मंत्री ने जताई चिंता, पत्र में कही बड़ी बात

लखनऊ: कोरोना वायरस लगातार आदमी की जिंदगी को और कठिन बनाता जा रहा है। तेजी से फैलते संक्रमण के चलते कई पाबंदियां भी लगाई जा रही हैं। लखनऊ में लगातार स्थिति बिगड़ने से स्वास्थ्य विभाग से लेकर सरकार की नींद उड़ गई है।

मंत्री ने पत्र लिखकर जताई चिंता

यूपी सरकार में मंत्री बृजेश पाठक ने पत्र लिखकर अपनी बात रखी। उन्होंने उच्च अधिकारियों से शहर की खराब हालत पर चिंता जताई। जनता के दुख से आहत होकर उन्होंने चिंता जताई, स्वंय की पैरवी के बाद भी आम लोगों की मदद न होने से उनकी चिंता बढ़ गई। अधिकारियों की लापरवाही पर मंत्री ने अपनी बात रखी।

लखनऊ की खराब हालत पर मंत्री ने जताई चिंता, पत्र में कही बड़ी बात

नहीं उठ रहा समय पर फोन

बृजेश पाठक ने कहा कि कार्यालय के फोन बजते रहते हैं, लेकिन कोई जवाब नहीं आता है। आम आदमी मदद के लिए लगातार परेशान नज़र आ रहा है। अधिकारियों का यही रवैया आम और खास दोनों लोगों के लिए है, ऐसें में स्थिति पर नियंत्रण कैसे लगाया जाए।

कोरोना के अतिरिक्त अन्य मरीज भी परेशान

कोरोना के आने के बाद अन्य रोगों का इलाज कराने वाले मरीजों को पूछने वाला अब कोई नहीं, ऐसे में उनके तीमारदार मदद के लिए लोगों से सिफारिश लगवाते रहते हैं। यह बड़ी चिंता की बात है कि लखनऊ जैसे बड़े शहर में भी स्थिति इस तरह से बिगड़ती जा रही है। मंत्री ने डॉ योगेश प्रवीण का जिक्र करते हुए कहा कि इस मामले में भी लापरवाही देखने को मिली है। उनका निधन भी उचित समय पर सुविधायें न मिलने के कारण हो गया।

लखनऊ में कैसे संभले हाल

राजधानी लखनऊ की तस्वीर बड़ी परेशान करने वाली है, बीते कुछ दिन से मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। जिसके कारण स्वास्थ्य व्यवस्थाओं पर दबाव खूब बढ़ गया है। इसीलिए लापरवाही के भी कुछ मामले आगे आए हैं, इसी से जुड़े मामले में बृजेश पाठक ने पत्र लिखकर चिंता जताई। उत्तर प्रदेश में 13 हजार तो वहीं लखनऊ में लगभग 4000 मामले सामने आ रहे हैं।

आज से नवरात्रि शुरू, पहले दिन होती है मां शैलपुत्री की पूजा

Previous article

चुनाव में गड़बड़ी करने वालों पर लगेगा रासुका, जमीन से आसमान तक सख्‍त निगरानी

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.