featured देश

सूरत में प्रवासी मजदूरों ने बरसाए पुलिस पर पत्थर, घर जाना चाहते मजबूर

सूरत सूरत में प्रवासी मजदूरों ने बरसाए पुलिस पर पत्थर, घर जाना चाहते मजबूर

सूरत। लॉकडाउन के दौरान पुलिस के साथ मार पीट और पत्थरबाजी के मामले अकसर सामने आ रहे हैं। कभी यूपी तो कभी दिल्ली में पत्थरबाजी के मामले सामने आए हैं। पुलिस के साथ ऐसा ही एक मामला सामने आया है गुजरात से जहां सोमवार को प्रवासी मज़दूरों ने पुलिस पर पत्थर बरसाए। जिसके बाद पुलिस ने पत्थरबाजी का जवाब देते हुए माहौल को शांत करने की कोशिश की। पुलिस ने आंसू गैस का इस्तेमाल कर स्थिति नियंत्रण किया। प्रवासी मज़दूरों की मांग थी कि लॉकडाउन-3 के चलते उन्हें उनके स्थान पर जाने की इजाज़त दी जाए। 

बता दें कि सूरत के प्रवासी मजदूर अपने घर जाना चाहते हैं लेकिन जाने के लिए उनके पास कोई सुविधा नहीं है। जिसके चलते उन्होंने  ये हंगामा किया। इसके चलते मज़दूरों ने लॉकडाउन के भी दिशा निर्देश जारी किए हैं। एक प्रवासी मजदूर ने कहा, “बिहार का रहने वाला हूं यहां मील में काम करता हूं। अभी तक हमें मार्च की पगार भी नहीं मिली है। खाने का ठिकाना नहीं है, सरकार ने कोई सुविधा नहीं दी है। पुलिस वाला आता है, मारता है, डराता है और जाता है।

वहीं पिछले महीने भी सूरत में लॉकडाउन 2 के दौरान प्रवासी मजदूर और पुलिस में 28 अप्रैल को झड़प देखने को मिली थी, जिसके बाद पुलिस ने 5 लोगों को हिरासत में लेते हुए 300 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था। जिन लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया था उनमें अधिकतर सूरत में रहने वाले प्रवासी मजदूर थे।

https://www.bharatkhabar.com/african-swine-flu-knocks-in-india-2500-pigs-die-in-assam/

साथ ही पुलिस के मुताबिक, यह वाकया उस वक्त शुरू हुआ जब ढिंढोली पुलिस थाना के अंतर्गत आने वाले ठाकोर नगर में पुलिस ड्यटी पर थी। ढिंढोली पुलिस स्टेशन के पुलिस इंस्पेक्टर एच.एम. चौहान ने कहा, “कुछ लोग बिना किसी वजह के बाजार में घूम रहे थे। जब पेट्रोलिंग वैन पर सवार पुलिस ने उन सभी से घर में रहने और लॉकडाउन के नियमों का पालन करने को कहा तो वे गुस्से में आकर पुलिस पर पत्थरबाजी करने लगे। बाद में, स्थानीय लोगों ने भी पुलिस पर पत्थरबाजी की और उनके साथ बहस करने लगे थे।”

इतना ही नहीं पुलिस इंस्पेक्टर ने बताया कि उसी समय पुलिस ने कंट्रोल रूम को इस बारे में इत्तिला दी। चौहान ने कहा, “घटना के बाद फौरन लिम्बायत और ढिंढोली थाने की पुलिस मौके पर घिरे हुए पुलिसकर्मियों की मदद करने के लिए पहुंची। यह विवाद करीब एक घंटे बाद जाकर सुलझाया गया। हालांकि, इस घटना में कमलेश चौधरी नाम के एक हेड कांस्टेबल को चोट आई है और एक पुलिस की गाड़ी क्षतिग्रस्त हुई थी।”

11 अप्रैल को सूरत में झड़प के बाद 81 लोगों की गिरफ्तारी

इससे पहले, 11 अप्रैल को पुलिस ने एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1897 का उल्लंघन करने और दंगा के आरोप में सूरत में 81लोगों को गिरफ्तार किया था, जिनमें अधिकतर ओडिशा के प्रवासी मजदूर थे। इनमें से कई प्रवासी मजदूरों को मार्च के महीने के वेतन नहीं मिल पाने और 25 मार्च को लगाए गए 21 दिनों के लॉकडाउन के चलते अथॉरिटीज की तरफ से पैतृक स्थान पर जाने की इजाजत नहीं मिल पाने की वजह से ये लोग हिंसा पर उतर आए थे।

Related posts

बिहार के पूर्णिया में स्थित सेंट्रल जेल में कैदी रोज 500 मास्क बना रहे

Rani Naqvi

रिश्तों की मजबूती के लिए खास है पीएम मोदी की म्यांमार यात्रा

piyush shukla

लखनऊ विधानसभा परिसर में सीएम योगी ने किया झंडारोहण, दी शुभकामनाएं

Shailendra Singh