January 23, 2022 6:10 pm
featured देश बिहार

सीएम नीतीश से पंगा, शहाबुद्दीन को पड़ सकता है मंहगा

e8912cc6 d410 463c bc23 b6660030f5b2 सीएम नीतीश से पंगा, शहाबुद्दीन को पड़ सकता है मंहगा

पटना। सिवान से पूर्व राजद सांसद शहाबुद्दीन पर एक बार फिर जेल जाने का खतरा मंडरा रहा है। सूत्रों के हवाले से मिल रही जानकारी के अनुसार शहाबुद्दीन को क्राइम कंट्रोल एक्ट के तहत फिर से जेल जाना पड़ सकता है। ऐसा कयास इसलिए भी लगाया जा रहा है क्योंकि बिहार सरकार ने शहाबुद्दीन का नाम राज्य के हिस्ट्रीसीटर के प्रथम श्रेणी मे रखा है। हालांकि अभी तक मुख्यमंत्री नीतीश ने शहाबुद्दीन के खिलाफ क्राइम कंट्रोल एक्ट लागू किया नही है। आपको बता दें कि भाजपा ने शहाबुद्दीन के रिहाई के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और सीबीआई जांच कराने की मांग कर रही है, साथ ही राज्यपाल से मिलकर भाजपा ने कारण बताओ नोटिस भी सौंपा है।

e8912cc6-d410-463c-bc23-b6660030f5b2

इस मुद्दे पर जारी उठापटक के दौरान सोमवार को पटना में जदयू ने एक बैठक बुलाई। सीएम नीतीश कुमार की अध्यक्षता में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह, मंत्री ललन सिंह, मंत्री विजेंद्र यादव बैठक में मौजूद रहे। शहाबुद्दीन के जेल से छूटते ही विरोधी पार्टियों ने आरोप लगाना शुरु कर दिया था बिहार में एक बार फिर से जंगल-राज आ गया है।

बैठक के पश्चात जेडीयू के पूर्व अध्यक्ष और वरिष्ठ नेता शरद यादव ने उन आशंकाओं को खारिज किया है, जिसमें कहा गया कि शहाबुद्दीन के जेल से छूटने से सूबे में कानून व्यवस्था पर असर पड़ेगा। यादव ने इसके साथ ही यह भी कहा कि शहाबुद्दीन के यह कहने से कोई फर्क नहीं पड़ता कि नीतीश कुमार परिस्थितियों के मुख्यमंत्री हैं। शरद ने कहा कि नीतीश कुमार गठबंधन के नेता हैं और राज्य में जिस सख्ती से कानून का पालन होता आया है, उसी सख्ती से होता रहेगा।

आपको याद दिला दें इससे पहले रविवार को प्रदेश जदयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा था कि शहाबुद्दीन का बयान लोकतंत्र के लिए चिंता की बात है। हम उनको अपनी सरकार के इकबाल का एहसास कराएंगे। हमारी सरकार के इंजेक्शन से दर्द भी नहीं होता है। जदयू प्रवक्ता ने कहा था कि शहाबुद्दीन का ट्रैक रिकॉर्ड साधु-संत या महात्मा वाला नहीं है। ग्यारह साल जेल में रहने वाला आदमी बाहर आकर राजनीतिक ज्ञान दे रहा है। सबको पता है गैर बीजेपी मोर्चा के एक मात्र नायक नीतीश कुमार हैं। गौरतलब है कि राजद और जेडीयू के बीच शहाबुद्दीन के जेल से बाहर आते ही दिए गए बयान ने दोनो पार्टियों में मनमुटाव सा बना दिया था।

Related posts

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर किया ग्रेनेड अटैक

rituraj

दहेज के लालच में पति ने पत्नी को कोबरा से डसवाकर मारा

Kalpana Chauhan

IPL: एक सीजन में टीम के लिए इस खिलाड़ी ने ठोके सबसे ज्यादा रन

Aditya Mishra