मेरठ: एसपी सिटी की गुंडागर्दी, बिना बात के राहगिरों को जड़े थप्पड़

मेरठ: एसपी सिटी की गुंडागर्दी, बिना बात के राहगिरों को जड़े थप्पड़

मेरठ। मेरठ के एसपी सिटी मानसिंह चौहान ने आज शहर में कैंटबोर्ड के ध्वस्तीकरण अभियान के दौरान निर्दोष राहगीरो को बुरी तरह पीटा। राहगीर इलाके में जाम के चलते फँस गये थे और एसपी सिटी ने जाम में फँसे राहगीरों पर थप्पड़ और लाठियों से प्रहार किये। प्रदेश सरकार ने एसपी सिटी मानसिंह चौहान का तबादला कर दिया है। मानसिंह चौहान मेरठ के एसपी सिटी रहते कई मामलों में चर्चित रहे।

सूत्रों के मुताबिक मेरठ के सदर बाजार में स्थित विवादित बंगला नंबर 210 बी में अवैध रूप से निर्माण की गयी दुकानों को आज ध्वस्त कराया जाना था। कैंट बोर्ड के निवेदन पर सुरक्षा के लिए मेरठ के एसपी सिटी अपनी टीम के साथ मौके पर मौजूद थे। ध्वस्तीकरण अभियान के दौरान बुलडोजर सड़क पर आने से जाम लग गया और तमाशबीन वहाँ खड़े हो गये। तमाशबीनों को खदेड़ने के दौरान एसपी सिटी मानसिंह चौहान जाम में फँसे लोगो पर भी लाठियां लेकर बरस पड़े।

एसपी सिटी ने लाठी और थप्पड़ो से कई राहगीरों को पीटा। बाइक पर सवार एक पिता-पुत्र की एसपी सिटी ने थप्पड़ो से पिटाई की। जब पीड़ित ने विरोध किया तो एसपी सिटी के आदेश पर पुलिसवालों ने दोनो को बाइक से गिरा दिया और फिर जमकर पीटा। पुलिस उन्हें थाने भी ले गयी। इस दौरान एसपी सिटी माइक पर भद्दी गालियां भी दे रहे थे। एसपी सिटी के इस व्यवहार को उनके तबादले से जोड़कर देखा जा रहा है। शासन ने आज उनका तबादला लखनऊ कर दिया है। तबादले की वजह पिछले दिनों हुए एसपी सिटी के कई कारनामें रहे है।

पुलिस के इकबाल बुलंद करने के लिहाज से एसपी सिटी ने कुछ महीने पहले अपने आफिस में ही विभाग की नाक कटा दी थी। बीजेपी नेता कमलदत्त शर्मा ने व्यापारियों और भाजपाईयों के साथ मिलकर एसपी सिटी के आफिस में ही उन्हें भली-बुरी सुनाई और उन्हें नौकरी करना सिखाने तक की धमकी दी थी। कमलदत्त ने एसपी सिटी को धमकाते हुए होमगार्ड बनाने यानी कम महत्व के स्थान पर ट्रांसफर कराने की धमकी भी दी थी। इसके बाद एसपी सिटी सीसीटीवी कैमरे में कैद बदमाश के एनकाउंटर को लेकर भी विवादित रहे।

एसपी सिटी मानसिंह चौहान ने कुछ दिन पहले अफसरों की वाहवाही लूटने के चक्कर में लिसाड़ीगेट थाने में सक्रिय हिस्ट्रीशीटर और वांछित बदमाशों को बुलाकर उनके साथ फोटोसेशन किया और उन्हें फूल-मालाऐं पहनाकर सम्मानित भी किया। इतना ही नही, थाने के अंदर एसपी सिटी ने सभी बदमाशों को रसगुल्ला और समोसे की पार्टी भी दी। एसपी सिटी के इस कारनामे से आला अफसरों का सिर शर्म से झुक गया और शासन ने इस मामले में काफी सख्ती दिखाई थी।

हालिया कारनामे में एसपी सिटी ने कठुआ में गैंगरेप-हत्या की शिकार बच्ची का नाम व्हाट्सअप ग्रुप पर पोस्ट किये गये प्रेसनोट में उजागर कर दिया था जिसके बाद उनकी मीडिया में काफी थू-थू हुई। तीन दिन पहले पल्लवपुरम् के एक होटल में उन्होने वहाँ रूकी विदेशी महिलाओं को आधी रात में ही छापा मारकर उठा लिया और थाने ले आये। महिलाऐं तुर्कमेनिस्तान की थी और भारत में वह शरणार्थी थी। बाबजूद इसके एक महिला का पासपोर्ट अवैध होने का आरोप लगाकर उसे जेल भेज दिया गया। एसपी सिटी शास्त्रीनगर में दारोगा के परिवार के पलायन को लेकर भी चर्चित रहे। दारोगा की पत्नी के हत्या के बाद बामुश्किल आरोपी गिरफ्तार किये गये और दारोगा के परिवार की सुरक्षा भी हटा ली गयी थी।