होली आते ही नकली मावों के कारोबार ने पकड़ी रफ्तार

रुढ़की। इधर होली की तैयारियों में लोग पूरे जोरो-शोरो से लगे हुए है उधर मिलावट खोराें ने भी अपना करतब दिखाना शुरू कर दिया है यूपी रोडवेज की बसों के जरिए भारी मात्रा में मिलावटी मावा उत्तराखंड के कोने -कोने में पहुंचना शुरू हो गया है।

ताजा मामला यूपी-उत्तराखंड सीमा के नारसन बॉर्डर का है जहाँ चेकिंग के दौरान खाद्य सुरक्षा विभाग के अधिकारियों ने स्थानीय पुलिस की मदद से उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की खतौली डिपो की बस से लगभग डेढ़ क्विंटल मिलावटी मावा जब्त किया है मावा जिन बैगों में पैक था उसके ऊपर तुषार ऋषिकेश लिखा हुआ था जाहिर है। मावा ऋषिकेश जाना था लेकिन विभाग की होली के मौके पर मिलावटी सामानों की तस्करी की शंका के चलते चेकिंग के दौरान जब्त कर लिया गया है।

यूपी के मुजफरनगर जिले से उत्तराखंड के चप्पे-चप्पे पर मिलावटी खाद्य सामानों को पहुँचाने का मामला किसी से छिपा नहीं है और इसकी मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी रखने वाले खाद्य सुरक्षा विभाग की संदेहास्पद कार्यशैली भी जग जाहिर रही है क्योंकि केवल कुछ मुख्य त्योहारो पर खानापूर्ति करने के लिये विभागीय अधिकारी फिल्ड में निकलते है वरना पूरे साल मिलावटखोरों का धधा इन्ही की नाक के नीचे बदस्तूर फलता-फूलता रहता है और विभाग सोया हुआ रहता है जो विभाग की भूमिका पर भी सवाल खड़ा करता है।

  -शकील अनवर