मोदी और योगी गुलाल से भरा पड़ा है बाजार, चीनी सामान पूरी तरह से आउट

गोरखपुर: होली का पर्व रंग और गुलाल के बिना संभव नहीं है। जब तक चेहरे का हाव भाव ना बदल जाए, होली का मजा नहीं आता। इस बार बाजार में मोदी और योगी गुलाल भारी मात्रा में मौजूद हैं। दूसरी तरफ चीनी सामान का पूरी तरह से बहिष्कार कर दिया गया है।

इस बार देसी व्यापार होने की उम्मीद

पिछले साल कोरोनावायरस के प्रभाव ने होली पर कुछ असर डाला था। इसके साथ ही चीन के सामान भी भरे पड़े थे, जिससे भारतीय निर्माताओं का काफी नुकसान भी हो रहा था। इस वर्ष सिर्फ स्वदेशी वस्तुओं की ही दुकानों पर बिक्री हो रही है। चीन के सामान को कारोबारियों ने पूरी तरह से आउट कर दिया है। गोरखपुर के बाजार में भी यही नजारा देखने को मिला।

इस बार दिल्ली से कारोबारियों ने भारतीय सामान को ही खरीदा है। जिसे आम जनता के लिए उपलब्ध करवाया जा रहा है। इनके दाम थोड़े से ज्यादा हैं लेकिन यह भारत में बनाए गए हैं। अकेले गोरखपुर में ही 2 करोड़ से अधिक पिचकारी बिकने की उम्मीद लगाई जा रही है।

महंगाई की मार के बीच खुले बाजार

इस वर्ष महंगाई और कोरोना के नए मामले फिर से समस्या पैदा कर रहे हैं। बाजार में दुकानदारों का कहना है कि लोग महंगाई के कारण कम सामान खरीद रहे हैं। ऐसे में कुछ व्यापारियों को अपने माल के फंसने का भी खतरा सता रहा है।

मोदी और योगी गुलाल से भरा पड़ा है बाजार, चीनी सामान पूरी तरह से आउट

गुलाल

नेताओं की तस्वीर से सजे गुलाल-पिचकारी

भारत में राजनीति भी एक प्रकार का त्यौहार है। अलग-अलग राजनेता अपनी लोकप्रियता के कारण आम जनता के बीच मजबूत पकड़ रखते हैं। होली के त्यौहार को देखते हुए बाजार में भी इसी प्रयोग को अपनाया जा रहा है।

गुलाल, पिचकारी जैसे सामान पर राजनेताओं की फोटो लगाकर बेचने की रणनीति अपनाई गई है। जिनमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की भी तस्वीरें मौजूद हैं।

बच्चों को लुभाने के लिए कार्टून और सुपर हीरो की तस्वीरों का इस्तेमाल हो रहा है। इनमें सुपरमैन, स्पाइडरमैन, बाहुबली, मोटू पतलू, डोरेमोन और शक्तिमान जैसे किरदार शामिल हैं। इसी से बिक्री भी बढ़ती है और बच्चों का आकर्षण भी वस्तुओं की तरफ से ज्यादा होता है।

सरकारी नियम बदलकर मरीजों से किराए के नाम पर वसूल रहे रूपए

Previous article

लखनऊ: कोविड-19 के मरीज मिलने के चलते CMS महानगर सील

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured