देश featured राजस्थान राज्य

राजस्थान- मानवेंद्र सिंह बीजेपी में शामिल होने पर बताया बड़ी भूल, छोड़ा पार्टी का दामन

मानवेंद्र सिंह

नई दिल्ली।  राजस्थान में जैसे जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं वैसे वैसे सियासी हलचल तेज होती जा रही है। आपको बता दें कि राजस्थान में चुनाव से पहले ही बीजेपी को बड़ा झटका लगा है। बीजेपी के पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह की ओर से पार्टी से इस्तीफा दे दिया गया है। आपको बता दें कि मानवेंद्र सिंह बाड़मेर के शिव विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं और उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भाजपा छोड़ने की घोषणा की।

मानवेंद्र सिंह
मानवेंद्र सिंह

आपको बता दें कि मानवेंद्र सिंह ने स्वाभिमान रैली के जरिए जनता को संबोधित करते हुए कहा कि बीजेपी में रहना अब मेरे स्वाभिमान के खिलाफ है और उन्होंने कमल का फूल, बड़ी भूल कहते हुए भाजपा में शामिल होने को बड़ी भूल बताया। कांग्रेस में शामिल होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस संबंध में अभी कोई फैसला नहीं लिया है।

मानवेंद्र और भाजपा के रिश्ते चार साल से तल्ख बने हुए थे। भाजपा ने 2014 लोकसभा चुनाव में उनके पिता जसवंत सिंह को बाड़मेर से टिकट देने से मना कर दिया था। इसके बाद से उनके परिवार और भाजपा के रिश्ते खराब होने लगे थे। बता दें कि राजस्थान में मानवेंद्र राजपूत समाज के बीच काफी अच्छी पकड़ रखते हैं और राजपूत समाज काफी अच्छा वोट बैंक माना जाता है जिसका असर साफ तौर पर चुनावों में देखने को मिल सकता है। मानवेंद्र सिहं का ये फैसला बीजेपी को नुकसान को कांग्रेस को फायदा पहुंचा सकती है।

आपको बता दें कि फिलहाल राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के अध्यक्ष मोहन भागवत राजस्थान के दौरे पर हैं और इसी के साथ बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी राज्सथान के दौरे पर है जहां वो कार्यकर्ताओं में जीत का एक नया मंत्र देगें।

ये भी पढे़ं

अमित शाह का राजस्थान दौरा, कार्यकर्ताओं को देंगे जीत का मंत्र

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राजस्थान के सागवाड़ा में जनसभा को करेंगे संबोधित

Related posts

आदिवासी नायक व स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा बलिदान के प्रतीक थे: कमलनाथ

Trinath Mishra

Good News: मेरठ वालों को जल्द मिलेगा रैपिड रेल में सफर करने का मौका

Aditya Mishra

लोकसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, ओम बिरला बोले- अपेक्षाओं के अनुरूप नहीं हुआ कामकाज

Saurabh