किचन में हमेशा रखें वास्तु का ख्याल… हमेशा कुस रहेगा मन

किचन में हमेशा रखें वास्तु का ख्याल… हमेशा कुस रहेगा मन

अक्सर लोग घर को बनवाते वक्त किसी भी नियम को फॉलो नहीं करते जिसकी वजह से आने वाले समय में उन्हें कई तरह की समस्याओं से जूझना पड़ता है। पहले के जमाने की अपेक्षा लोग अब अपने घर को लेकर बहुत ज्यादा कॉन्शियस हो गए है जिसके चलते वो अपने घर की हर छोटी से छोटी चीज लाने पर अधिक ध्यान देते है। और इसी वजह से उनके सपनों का घर काफी सुंदर भी लगता है लेकिन क्या आपको पता है घर पर वास्तु के अनुसार काम करने से न केवल निगेटिविटी दूर होती है बल्कि घर में बरकत भी होती है तो चलिए आज आपको बताते है कि किचन में चीजों को कहां और कैसे रखें।

 

प्रतिकात्मक तस्वीर

 

-खाना बनाते समय गृहिणी अपना मुंह पूर्व दिशा में रखना चाहिए और रसोई के अंदर तुलसी का पौधे को स्थापित करें।

-ऐसा कहा जाता है कि वॉश बेसिन चूल्हे के पास न बनाएं। अगर वॉश बेसिन चूल्हे के पास है तो रसोई के बर्तन रसोई की अग्नि ठंडी होने के बाद साफ करें।

-इसके साथ ही गैस सिलैंडर हमेशा दक्षिण दिशा में स्थापित करें और अगर दक्षिण में स्थान नहीं है तो उसे पश्चिम दिशा में स्थापित किया जा सकता है।

-अगर रसोई दक्षिण दिशा में है तो गृहिणी जहां खड़े होकर खाना तैयार करती है उसके ऊपर पिरामिड लगाना उत्तम माना जाता है।

-वास्तु के अनुसार बने हुए खाने या फिर खाने की चीजों को किचन में पूर्व दिशा में रखें और वहां पर पूजा घर बनाने से परहेज करें।

-खाना बनने के बाद उसे चूल्हे पर रखकर न छोड़े नहीं तो लक्ष्मी रुठ सकती है।

-घर की रसोई अनुकूल न होने पर उसके अंदर दक्षिण दिशा की ओर एक बल्ब स्थापित करें। इसके साथ ही देर शाम और खाना बनाते समय उसे जरुर जलाएं।