लखनऊ यूनिवर्सिटी के लिए घातक हुआ कोरोना, अब पद्मश्री आचार्य बृजेश शुक्‍ल की मौत 

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कोरोना का प्रकोप बेहद घातक साबित हो रहा है। मंगलवार को इस खतरनाक संक्रमण से लखनऊ विश्‍वविद्यालय के वरिष्‍ठ प्रोफेसर बृजेश शुक्‍ल की मौत हो गई है।

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों कला संकाय के अधिष्ठाता पद्मश्री अवार्ड से सम्‍मानित 58 वर्षीय आचार्य बृजेश शुक्‍ला संस्‍कृत विभाग के प्रोफेसर थे। वह कुछ दिन पहले कोविड-19 संक्रमण की चपेट में आ गए थे।

लोहिया अस्‍पताल में चल रहा था इलाज  

लविवि प्रवक्ता डॉ. दुर्गेश श्रीवास्तव ने बताया कि आचार्य बृजेश शुक्ला को इलाज के लिए लोहिया अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। आज सुबह करीब पांच बजे उन्‍होंने अस्‍पताल में अंतिम सांस ली।

उन्‍होंने बताया कि, यूनिवर्सिटी में बीते 23 मार्च को अभिनव गुप्त संस्थान का शुभारंभ हुआ था, जिसमें आचार्य शुक्ल की भूमिका अहम रही। उन्होंने यहां कई पीएचडी कोर्स भी शुरू कराने की तैयारी की थी।

प्रोफेसर एके शर्मा की भी हो चुकी है मौत

ज्ञात हो कि बीते दिनों एलयू के पूर्व परीक्षा नियंत्रक प्रो. एके शर्मा की भी मौत कोविड-19 के कारण ही हो गई थी। वहीं, लविवि के करीब 14 शिक्षक कोरोना पॉजिटिव हैं। बीते सोमवार को वि‍श्‍वविद्यालय के डिप्टी रजिस्ट्रार भी कोरोना की चपेट में आ गए हैं।

यूनिवर्सिटी के अध्‍यापकों का कहना है कि, आचार्य बृजेश शुक्ला के निधन से उन्‍हें काफी दु:ख हुआ और साथ ही विश्‍वविद्यालय को भी बड़ी क्षति हुई है। वहीं, छात्र नेताओं ने भी कोविड-19 के बढ़ते कदमों को देखते हुए यूनिवर्सिटी को पूरी तरह से बंद करने की मांग की है। हालांकि, अभी विवि में 10 अप्रैल तक ऑनलाइन कक्षाएं चल रही हैं।

यूनिवर्सिटी बंद करने के लिए डीएम को भेजेंगे पत्र: कुलसचिव  

उधर, कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण विश्वविद्यालय के दो अध्‍यापकों (प्रो. एके शर्मा और प्रो. बृजेश शुक्‍ल) की मौत के बाद प्रशासन भी सचेत हो गया है। यूनिवर्सिटी के कुलसचिव विनोद कुमार सिंह का कहना है कि, जिलाधिकारी को पत्र लिखकर विश्वविद्यालय बंद करने का अनुरोध किया जाएगा।

उत्तराखंड: जंगलों को बचाने के लिए सरकार की पहल, आग बुझाने पर मिलेगा 1 लाख का इनाम

Previous article

बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों को अभी करना होगा नए पाठ्यक्रम का इंतजार

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured