featured यूपी

कल्‍याण सिंह के निधन से बदली PhD परीक्षा की डेट, अब इस तारीख को होगा Exam

कल्‍याण सिंह के निधन से बदली PhD परीक्षा की डेट, अब इस तारीख को होगा Exam

लखनऊ: पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के निधन पर प्रदेश सरकार ने 23 अगस्त को सार्वजनिक अवकाश घोषित किया है। ऐसे में लखनऊ विश्वविद्यालय में सोमवार को होने वाली पीएचडी की प्रवेश परीक्षा को स्थगित कर दिया गया है। यह एंट्रेंस एग्‍जाम अब 29 अगस्त को अपने पूर्व निर्धारित केंद्र और समय पर आयोजत किया जाएगा।

दो पालियों में होने थे एग्‍जाम  

लखनऊ यूनिर्सिटी के प्रवेश समन्वयक प्रो. पंकज माथुर ने बताया कि, 23 अगस्त को पहली पाली (सुबह 11 से 12.30 बजे) में अप्लाइड इकोनामिक्स, हिंदी, एंथ्रोपालिजी, मेडिवेल एंड मार्डन हिस्ट्री, पर्शियन, सांख्यिकी, केमेस्‍ट्री और जुलॉजी विषय की पीएचडी प्रवेश परीक्षा होनी थी। वहीं, दूसरी पाली (दोपहर 3.0 से शाम 4.30 बजे) में एजुकेशन, अंग्रेजी, इकोनामिक्स, बायो केमेस्ट्री, कम्प्यूटर साइंस, फिजिक्स, उर्दू, अरेबिक एंड अरब कल्चर और मैथमेटिक्स विषय की प्रवेश परीक्षा होनी थी।

उन्‍होंने बताया कि, अब पूर्व मुख्यमंत्री के निधन होने से राज्‍य सरकार ने सार्वजनिक अवकाश घोषित कर दिया है। इसलिए 23 अगस्‍त को होनी वाली पीएचडी प्रवेश परीक्षा 29 अगस्त को कराने का फैसला लिया गया है। इसके अलावा सोमवार को (23 अगस्त) होने वाली डिप्लोमा व सेमेस्टर परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गई हैं। इसके लिए भी नया शेड्यूल जारी किया गया है।

संशोधित शेड्यूल

कक्षा                 वर्ष/सेमेस्टर                पहले की तारीख                 नई तारीख

बीए                     छठा सेमेस्टर                23 अगस्त                         24 अगस्त

बीपीएड      पहला सेमेस्टर (सीसी 103)   23 अगस्त                         27 अगस्त

एमए इन एचसीवाईसी  चौथा सेमेस्टर (द्वितीय प्रश्न पत्र)  23 अगस्त     29 अगस्त

पीजी डिप्लोमा इन योग: दूसरा सेमेस्टर (द्वितीय प्रश्न पत्र) 23 अगस्त   29 अगस्त

सर्टिफिकेट इन योग: द्वितीय प्रश्न पत्र       24 अगस्त                         28 अगस्त

Related posts

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री रामनेरश यादव का लखनऊ में निधन

Anuradha Singh

कंगना के संग काम करने को लेकर दी गई थी चेतावनी-राइटर का खुलासा

mohini kushwaha

PM Modi in Pathankot: पीएम मोदी बोले -जहां विकास आया, वहाँ वंशवाद का हुआ सफाया!

Neetu Rajbhar